Thursday, June 17, 2021

 

 

 

बीजेपी की सिलीगुड़ी रैली में हुई हिंसा को लेकर कैलाश विजयवर्गीय और तेजस्वी सूर्या पर एफ़आईआर

- Advertisement -
- Advertisement -

सिलीगुड़ी:  पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में भाजपा (BJP) की ओर से किए गए विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा (Bengal Violence) को लेकर कई पार्टी नेताओं पर एफआईआर दर्ज की गई है। जिसमे बीजेपी के प्रदेश प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय और बीजेपी युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या समेत कई बीजेपी नेता शामिल है।

पुलिस का आरोप है कि जिन बीजेपी नेताओं के खिलाफ केस दर्ज किया है कि उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को हिंसा करने, कानून-व्यवस्था को तोड़ने, पुलिस के साथ झड़प करने और सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने के लिए उकसाया। 7 दिसंबर को हुई हिंसा में बीजेपी के एक वरिष्ठ कार्यकर्ता की मौत भी हो गई थी।

आरोप था कि बीजेपी के कार्यकर्ता की मौत पुलिस की गोली से हुई है। पुलिस ने इन आरोपों का खंडन किया। साथ ही मामले की जांच सीआईडी को सौंप दी। अब मामले में वेस्ट बंगाल पुलिस ने बीजेपी नेताओं पर एफआईआर दर्ज की है। अधिकारियों ने बताया कि इस दौरान कई प्रदर्शनकारी और पुलिसकर्मी संघर्ष में जख्मी हुए।

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने आरोप लगाया कि पार्टी कार्यकर्ता उलेन रॉय की मौत के पीछे पुलिस और तृणमूल कांग्रेस के गुंडों” की सांठगांठ है। उन्होंने कहा, “यह पुलिस की नादिरशाही (क्रूरता) और ममता बनर्जी सरकार की अराजकता है। पुलिस और टीएमसी के गुंडों के बीच सांठगांठ है। पुलिस आंसू गैस का इस्तेमाल कर रही थी और गुंडे देशी बम फोड़ रहे थे।”

वहीं पश्चिम बंगाल पुलिस ने ट्विटर पर कहा, ” एक राजनीतिक पार्टी के समर्थकों ने अपने प्रदर्शन के दौरान हिंसा का गंभीर कृत्य किया। उन्होंने आगजनी की, पथराव किया, गोलीबारी की और सरकारी संपत्ति की तोड़फोड़ की।” एक अन्य ट्वीट में पुलिस ने कहा, ” पुलिस ने संयम बरता और लाठीचार्ज नहीं किया या गोली नहीं चलाई। हिंसक भीड़ को तितर-बितर करने के लिए सिर्फ पानी की बौछारों और आंसू गैस का इस्तेमाल किया। बहरहाल, एक व्यक्ति की मौत रिपोर्ट की गई है।शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा जा रहा है। पोस्टमॉर्टम के बाद ही मौत के सटीक कारण का पता चल पाएगा।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles