नोएडा से भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के प्रत्याशी और केंद्रीय मंत्री डॉ महेश शर्मा से एक निजी चैनल की तथाकथित पत्रकार द्वारा ब्लैकमेलिंग का मामला सामने आया है। महेश शर्मा ने प्राइवेट चैनल में काम करने वाली एक महिला पत्रकार पर 2 करोड़ रुपए मांगने का आरोप लगाया है।

बताया जा रहा है कि इस ब्लैकमेलिंग में नोएडा स्थित एक निजी चैनल का संचालक भी शामिल है। इस गिरोह में पांच से छह लोगों के शामिल होने की बात सामने आ रही है। गौतमबुद्ध नगर के एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि महेश शर्मा से 2 करोड़ रुपये मांगने वाली लड़की सोमवार को 45 लाख की किश्त लेने के लिए नोएडा स्थित कैलाश अस्पताल आयी थी। इसके बाद आरोपित युवती को गिरफ्तार कर लिया गया।

महेश शर्मा के मुताबिक कुछ लोग उनसे चुनाव के पहले मिले थे और चुनाव में मदद करने की बात की थी। फिर कुछ दिन बाद उनके पास फोन आया कि आपका स्टिंग कर लिया है आप हमें 2 करोड़ रुपये दे नहीं तो वो वीडियो वायरल कर देंगे। सोमवार को वो महिला महेश शर्मा के दफ्तर पहुंचीं, तभी महेश शर्मा ने पुलिस को बुला लिया और महिला को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस को महिला के पास से एक स्टिंग डिवाइस भी मिला है।

bjp

महेश शर्मा बचपन से ही आरएसएस से जुड़ गए थे। छात्र जीवन के दौरान एबीवीपी से जुड़े। फिर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। वर्ष 2009 में पहली बार वह गौतमबुद्ध नगर लोकसभा का चुनाव भाजपा के टिकट पर लड़े। वह पंद्रह हजार मतों से चुनाव हार गए। वर्ष 2012 में वह नोएडा विधानसभा का चुनाव लड़े और जीत गए। वर्ष 2014 में गौतमबुद्ध नगर से भाजपा ने उन्हें फिर लोकसभा चुनाव में उतारा। इस बार वह चुनाव जीत गए। फिर केंद्रीय मंत्री बनें। इस बार फिर वे चुनावी मैदान में हैं।

इनकी मीटिंग कराने और ब्लैकमेलिंग करने के मामले में नोएडा की जानी-मानी व निठारी कांड पीड़ितों की मदद करने वाली एक समाज सेविका भी शक के घेरे में है। पुलिस अभी उससे पूछताछ कर रही है। एसएसपी का कहना है कि अगर समाजसेविका के खिलाफ कोई सबूत मिला तो उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा। इसके आलावा पूर्व में नोएडा में तैनात रहे एक डीएसपी भी शक के घेरे में हैं।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें