राफेल विमान सौदे पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के सनसनीखेज दावे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब पूरे विपक्ष के सीधे निशाने पर है। ऐसे में सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी कांग्रेस के प्रमुख राहुल गांधी ने कहा, मोदी सफाई दें, क्योंकि एक दूसरे देश के पूर्व राष्ट्रपति ने उन्हें ”चोर” कहा है।

उन्होने कहा, ”फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कहने पर अनिल अंबानी की कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट दिया गया। एक तरह से वो कह रहे हैं कि भारत के प्रधानमंत्री चोर हैं।” उन्होंने कहा, ”पहली बार है कि किसी दूसरे देश के पूर्व राष्ट्रपति ने हमारे प्रधानमंत्री को चोर कहा। भ्रष्टाचारी कहा है। यह भ्रष्टाचार, रक्षा और हमारे जवानों के भविष्य का मामला है। प्रधानमंत्री पूरी तरह चुप हैं। वह एक शब्द नहीं बोले।” कांग्रेस प्रमुख ने कहा, ”भारत के प्रधानमंत्री को सफाई देनी चाहिये। समझ नहीं आ रहा है कि वह क्यों नहीं बोल रहे हैं।” उन्होंने कहा, “देश का चौकीदार का चोर है। पूरी तरह से भ्रष्टाचार का मामला है।”

राहुल के इस बयान से पूरी बीजेपी बोखला गई है। राहुल गांधी के बयान की आलोचना करते हुए भाजपा विधायक भवानी सिंह रजावत ने कहा कि “देश के प्रधानमंत्री को चोर कहना, ये राहुल गांधी की बुद्धि के दिवालियापन का सबूत है। राहुल गांधी को सोचना चाहिए उनके बाप-दादा चोर थे।”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि राफेल डील को लेकर शुक्रवार को ओलांद ने कहा है कि इस सौदे के ऑफसेट साझेदार के रूप में एक प्राइवेट कंपनी का प्रस्ताव मोदी सरकार ने किया था और इसमें फ्रांस के पास दूसरा कोई विकल्प नहीं था।ओलांद के हवाले से कहा गया है कि अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस के साथ करार करने में फ्रांस सरकार की कोई भूमिका नहीं थी। राफेल डील के लिए भारत सरकार ने वहां की एक प्राइवेट कंपनी का नाम प्रस्तावित किया था। लिहाजा दसॉ एविएशन कंपनी के पास कोई और विकल्प नहीं था।

वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सरकार राफेल विमान सौदे की सच्चाई छिपाकर राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डाल रही है। केजरीवाल ने कहा, “राफेल सौदे के महत्वपूर्ण तथ्यों को छिपाकर क्या मोदी सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में नहीं डाल रही है? फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति का बयान प्रत्यक्ष तौर पर, अबतक मोदी सरकार की तरफ से पेश किए जा रहे तथ्यों के उलट है. क्या देश को इससे आगे भी ले जाया जा सकता है?”

केजरीवाल ने आगे कहा, “प्रधानमंत्री, सच बोलिये. देश सच जानना चाहता है, पूरा सच। प्रत्येक दिन भारत सरकार के बयान गलत साबित हो रहे हैं। अब लोगों को संदेह होने लगा है कि राफेल सौदे में कुछ गड़बड़ जरूर है, अन्यथा सरकार दिन-पर-दिन झूठ क्यों बोलती।”

Loading...