par

गोवा में कांग्रेस के विधायकों ने मंगलवार को राज्यपाल मृदुला सिन्हा से मुलाकात कर भाजपा सरकार को विधानसभा में बहुमत साबित करने का निर्देश देने की मांग की है। दरअसल, कांग्रसी विधायक मौजूदा सरकार को बर्खास्त करने और वैकल्पिक सरकार बनाने के लिए दावेदारी पेश करने की मांग कर रहे हैं।

इससे पहले सोमवार को राजभवन में कांग्रेस के 14 विधायकों ने राज्यपाल मृदुला सिन्हा को दो ज्ञापन पत्र सौंपते हुए कहा कि 40 सदस्यों की विधानसभा में कांग्रेस को बहुमत साबित करने का मौका दिया जाना चाहिए। कांग्रेस विधायक पार्टी के नेता चंद्रकांत बाबू कावलेकर के नेतृत्व में राजभवन पहुंचे थे। हालांकि, राज्यपाल के राजभवन में नहीं होने की वजह से इन विधायकों की उनसे मुलाकात नहीं हो पाई थी।

अब कावलेकर के नेतृत्व में कांग्रेस विधायकों ने मांग की कि राज्यपाल को विधानसभा का एकदिवसीय सत्र बुलाकर बहुमत साबित करवाना चाहिए। कावलेकर ने कहा कि राज्यपाल ने उन्हें आश्वासन दिया कि वह अगले तीन-चार दिनों में इस मुद्दे पर उन्हें अवगत कराएंगी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

congres

राज्यपाल के साथ बैठक के दौरान कांग्रेस विधायकों ने कहा कि 40 सदस्यीय विधानसभा में पर्रिकर के नेतृत्व वाले गठबंधन के पास बहुमत से कम आंकड़ा हैं। सरकार बनाने के लिए कांग्रेस के पास आवश्यक संख्या है। मृदुला सिन्हा के साथ मुलाकात के बाद कावलेकर ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘राज्य सरकार सदन में साबित करे कि उसके पास बहुमत है अन्यथा हम दिखाएंगे कि हमारे पास उनसे ज्यादा विधायक हैं।’’

उधर, गोवा फॉरवर्ड पार्टी (GFP) के प्रमुख विजय सरदेसाई ने मंगलवार को कहा कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने फोन कर उनसे गोवा में राजनीतिक हालात एवं स्थिरता सुनिश्चित करने को लेकर चर्चा की। GFP, बीजेपी की सहयोगी पार्टी है और राज्य में उसके तीन विधायक हैं। सरदेसाई ने बताया, ‘राजनीतिक हालात का जायजा लेने के लिए बीजेपी के राष्ट्रीय पर्यवेक्षकों के यहां पहुंचने से पहले अमित शाह ने मुझे फोन किया। ’

गोवा के 40 सदस्यीय सदन में कांग्रेस के 16 विधायक हैं। गोवा फॉरर्वड पार्टी (जीएफपी), महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी), राकांपा और निर्दलियों के सहयोग से राज्य का शासन बीजेपी चला रही है।

Loading...