नई दिल्ली | समाजवादी पार्टी में दो फाड़ होने के बाद आज दोनों गुट चुनाव आयोग के समक्ष पेश हुए. चुनाव आयोग ने दोनों गुटों का एक साथ बुलाकर उनका पक्ष जाना. करीब 5 घंटे दोनों पक्षों की बात सुनने के बाद चुनाव आयोग ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया. उम्मीद है की कल ‘साइकिल’ का भविष्य तय हो जायेगा. चुनाव आयोग कल इसक फैसला करेगा की समाजवादी पार्टी का चुनाव चिन्ह ‘साइकिल’ किस गुट को दिया जाए.

शुक्रवार को करीब 12 बजे अखिलेश खेमे की तरफ से रामगोपाल यादव चुनाव आयोग पहुंचे. उनके पीछे पीछे मुलायम सिंह भी चुनाव आयोग पहुँच गये. अपना पक्ष रखने से पहले मुलायम सिंह ने आयोग के बाहर अपने समर्थको को संबोधित किया. मुलायम ने कहा की मैं आपसे वादा करता हूँ की पार्टी टूटने नही दूंगा और ‘साइकिल’ हमारे पास ही रहेगी.

चुनाव आयोग के बाहर मुलायम समर्थको के अलावा अखिलेश समर्थक भी पहुंचे. दोनों नेताओं के समर्थक अपने अपने नेताओं के पक्ष में नारे लगाते हुए भी दिखे. चुनाव आयोग में अखिलेश खेमे की तरफ से मशहूर वकील और कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल ने पक्ष रखा. उन्होंने चुनाव आयोग को बताया की पार्टी के करीब 90 फीसदी विधायक और सांसद अखिलेश की तरफ है इसलिए पार्टी पर उनका दावा ज्यादा मजबूत है.

रामगोपाल द्वारा बुलाये गए अधिवेशन को अवैध बताने के मुलायम खेमे के दावों पर कपिल सिब्बल ने कहा की उन सभी दस्तावेजो की जांच होनी चाहिए जिनको मुलायम के हस्ताक्षर कर जारी किया गया क्योकि दो अलग अलग पत्रों में मुलायम के अलग अलग हस्ताक्षर है. लंच के बाद मुलायाम सिंह ने अपना पक्ष रखा.

करीब 5 घंटे बातचीत होने के बाद चुनाव आयोग ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया. चुनाव आयोग से बाहर आने के बाद कपिल सिब्बल ने उम्मीद जताई की फैसला उनके पक्ष में आएगा. उधर कांग्रेस और रालोद भी इसी इन्तजार में है की चुनाव आयोग क्या फैसला सुनाएगा. वैसे यह तय है की दोनों दल अखिलेश खेमे के साथ गठबंधन करने जा रहे है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें