नई दिल्ली | समाजवादी पार्टी में पिछले एक महीने से चल रहा सस्पेंस खत्म हो गया. चुनाव आयोग ने मुलायम सिंह यादव को करारा झटका देते हुए समाजवादी पार्टी और सिंबल ‘साइकिल’ अखिलेश को देने का फैसला किया है. करीब साढ़े छह घंटे की माथापच्ची के बाद चुनाव आयोग ने अखिलेश यादव के पक्ष को मजबूत मानते हुए मुलायम सिंह यादव का दावा ख़ारिज कर दिया.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार चुनाव आयोग ने यह फैसला कर लिया है की समाजवादी पार्टी और सिंबल ‘साइकिल’ किस गुट को दी जाएगी. समाजवादी पार्टी में दो फाड़ होने के बाद, मुलायम सिंह और अखिलेश दोनों ही यह दावा कर रहे थे की समाजवादी पार्टी पर उनका हक़ ज्यादा है. 13 जनवरी को चुनाव आयोग ने दोनों को अपना पक्ष रखने के लिए बुलाया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

दोनों गुटों का पक्ष जानने के बाद चुनाव आयोग ने यह फैसला किया की चूँकि अखिलेश को पार्टी के 90 फीसदी विधायको का समर्थन प्राप्त है इसलिए चुनाव आयोग के कानून के अनुसार पार्टी और सिंबल पर अखिलेश का अधिकार है. इसलिए समाजवादी पार्टी पर अखिलेश यादव का अधिकार मानते हुए उन्हें पार्टी सिंबल ‘साइकिल’ और पार्टी का नाम देने का फैसला किया गया.

उधर चुनाव आयोग का फैसला मुलायम सिंह के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. पार्टी सिंबल और नाम अखिलेश को मिलने के बाद मुलायम सिंह को दूसरी पार्टी का गठन करना होगा और चुनाव आयोग से दुसरे सिंबल की मांग करनी होगी. चूँकि सूबे में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कल से नामांकन शुरू हो रहा है इसलिए मुलायम सिंह के लिए काफी मुश्किल घडी आती दिख रही है.

Loading...