Thursday, September 23, 2021

 

 

 

दिग्विजय सिंह ने की अपनी ही सरकार से बड़ी मांग -चित्रकूट के ‘आरएसएस विश्वविद्यालय’ की हो जांच

- Advertisement -
- Advertisement -

भोपाल: मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ट नेता दिग्विजय सिंह ने अपनी ही सरकार से बड़ी मांग करते हुए कहा कि चित्रकूट में, जो संघ का विश्वविद्यालय है उसकी जांच होनी चाहिए। उन्होने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले दिनों चित्रकूट के जुड़वां भाइयों की हत्या सहित प्रदेश में हुई हत्याओं में भाजपा, आरएसएस और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं का हाथ है।

सिंह ने जिले के सेमली आश्रम में प्रवास के दौरान पत्रकारों से चर्चा में कहा, ‘‘मैं कुछ उदाहरण आपको दे रहा हूं। इन्दौर में एक बहुत बड़े व्यापारी की हत्या हुई, सुपारी ली सुधाकर मराठा ने। वो भाजपा का सक्रिय सदस्य रहा है। कम से कम 25 हत्याएं उसने सुपारी लेकर करवाई हैं।

शिवराज सिंह से पूछिये, उससे संबंध थे या नहीं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मंदसौर में नगर पालिका अध्यक्ष की हत्या हुई, किसने की, भाजपा के नेता ने। रतलाम में आरएसएस के पदाधिकारी ने अपने को मरा घोषित करने के लिये एक मजदूर की हत्या की, जो दलित था, उसको जला दिया ताकि बीमा का पैसा मिल सके। ये काम है आरएसएस का।’’ सिंह ने आरोप लगाया कि इसके बाद भाजपा नेता की उसकी पार्टी के साथी ने ही बड़व़ानी जिले में हत्या कर दी।

तेल कारोबारी के छह वर्षीय जुड़वां बेटों का सतना जिले के चित्रकूट में स्कूल से अपहरण और बाद में हत्या की घटना पर सिंह ने कहा, ‘‘अभी चित्रकूट में जो हत्या हुई, किसने की, बजरंग दल, विश्व हिन्दू परिषद और भाजपा के नेताओं ने। उनकी मोटरसाइकिल पर भाजपा का निशान बना हुआ था और ये कहां पढ़ते थे, चित्रकूट विश्वविद्यालय में, जो संघ का विश्वविद्यालय है।

ऐसे विश्वविद्यालय की तत्काल जांच होना चाहिये।’’ सिंह के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा ने कहा कि दो माह के कांग्रेस सरकार के शासन में प्रदेश में अपराध का ग्राफ तेजी से बढ़ा है और कांग्रेस सरकार इस पर नियंत्रण कर पाने में असफल साबित हो रही है। वह केवल प्रदेश में बढ़ रहे अपराधों को ढंकने की कोशिश कर रहे हैं।

प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष विजेश लुनावत ने कहा, ‘‘दिग्विजय सिंह , जो कि मध्यप्रदेश के सुपर सीएम है। अपनी सरकार के कमजोर पुलिस प्रशासन और बढ़ते अपराधों के ग्राफ को ढंकने की कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस सरकार पैसों के लिये तबादला उद्योग चला रही है।’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles