लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने आज पूर्व केंद्रीय मंत्री ई. अहमद के निधन के बावजूद केंद्रीय बजट पेश किये जाने को लेकर केंद्र की मोदी सरकार की आलोचना की हैं. इसी के साथ उन्होंने आरोप लगाया कि इस खबर को दबाने की कोशिश की गई ताकि बिना किसी अवरोध के बजट पेश किया जा सके.

खड़गे ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘उन्हें इस (ई. अहमद के निधन) के बारे में जानकारी थी और इसे सार्वजनिक करने के बारे में फैसला कर सकते थे लेकिन उन्होंने इसे रोक कर रखा। उन्होंने सोचा कि बजट पेश किये जाने के बाद वह फैसला करेंगे.”

उन्होंने कहा, ‘‘यह अमानवीय कृत्य है। ऐसे समय में इस तरह के राजनेता को लेकर सरकार का रुख स्वीकार्य नहीं है. बजट के लिए बहुत समय है। वे बजट स्थगित कर सकते थे और इसे कल करा सकते थे लेकिन उन्होंने इस बात को नहीं माना.’’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

केरल के मल्लपुरम से सांसद और आईयूएमएल प्रमुख अहमद को मंगलवार को संसद के संयुक्त सत्र में राष्ट्रपति के अभिभाषण के दौरान दिल का दौरा पड़ा था. जिसके बाद उनका इलाज के दौरान आरएमएल अस्पताल में सोमवार रात को 2 बजे निधन हो गया था.

याद रहें कि संसद के मौजूदा सदस्य के निधन के बाद संसद को दिनभर के लिए स्थगित कर दिया जाता है. पहली बार किसी सांसद के निधन पर संसद की कार्यवाही जारी रख बजट पेश किया गया हैं.

Loading...