Sunday, September 26, 2021

 

 

 

बाबरी मस्जिद को खतरा होने के बावजूद कारवाई न करना नरसिंह राव की घातक राजनितिक भूल

- Advertisement -
- Advertisement -

p chin

अयोध्या में बाबरी मस्जिद की शहादत और इस दौरान तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिंह राव की बाबरी मस्जिद को लेकर किये गये फैसले की आलोचना करते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि बाबरी मस्जिद के खतरा होने का पुख्ता सबूत होने के बावजूद इसे केंद्र के नियंत्रण में नहीं लाना नरसिंह राव सरकार की तरफ से ‘घातक राजनैतिक भूल’ थी.

‘टाटा लिटरेचर लाइव फेस्टिवल’ में ‘नरसिंह राव : द फॉरगॉटेन हीरो’ पर चर्चा के दौरान उन्होंने इस बारें में कहा कि वह घटना को महज फैसले में भूल बताकर दरकिनार नहीं करेंगे. घटना के परिणामस्वरूप तत्कालीन प्रधानमंत्री राव ने पार्टी के कार्यकर्ताओं का विश्वास खो दिया.

उन्होंने आगे कहा कि कहा कि कई लोगों ने नरसिंह राव को चेतावनी दी थी, बाबरी ढांचे को खतरा है. हमारी सरकार ने एक बयान जारी किया था कि किसी भी परिस्थिति में हम उसे ध्वस्त करने की इजाजत नहीं देंगे. अगर जरूरत पड़ी तो हम सेना और अर्धसैनिक बलों को तैनात करेंगे. उन्होंने कहा कि यह खतरा अचानक नहीं था और न तो कारसेवकों की तरफ से यह स्वत: कार्रवाई थी.

उन्होंने कहा कि रामेश्वरम से पत्थर लाए जा रहे थे और वे ट्रेन से यात्रा कर रहे थे. समूची ट्रेन को बुक किया जा रहा था. हर कोई जानता था कि लाखों लोग जुटेंगे. बाबरी ढांचे को असली खतरा था, जो वहां कम से कम 1987-88 से था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles