नई दिल्‍ली: कृषि संकट का मुद्दा उठाते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज कहा कि उद्योगपति विजय माल्या 9,000 करोड़ रुपये का कर्ज होने के बावजूद देश से भाग गए और पूरी व्यवस्था ‘असहाय’ है, जबकि किसान मामूली रकम का कर्जदार होने के बाद भी खुदकुशी करने पर मजबूर हैं।

हजारों करोड़ के कर्जदार माल्या के आगे व्यवस्था लाचार, किसान खुदकुशी को मजबूर : केजरीवालपंजाब में किसानों की खुदकुशी का मुद्दा उठाते हुए केजरीवाल ने कहा कि वे कर्ज न चुका पाने की वजह से आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे हैं।

गौरतलब है कि केजरीवाल ने यह मुद्दा ऐसे समय में उठाया है जब पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

शहीद दिवस के अवसर पर आज दिल्ली विधानसभा में भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरू की प्रतिमा का अनावरण करने वाले केजरीवाल ने कहा, ‘जब माल्या 9,000 करोड़ रुपये का कर्ज बकाया होने के बाद भी भाग गए तो उनके सामने पूरी व्यवस्था लाचार नजर आ रही है। मुझे नहीं लगता कि देश में वह आजादी आई है, जिसका सपना भगत सिंह ने देखा था।’

केजरीवाल ने कहा, ‘हमारी व्यवस्था में कई खामियां हैं। एक तरफ माल्या 9,000 करोड़ रुपये का कर्ज लेकर भाग गए, जबकि दूसरी ओर महज 50,000-60,000 रुपये के कर्ज से दबा किसान खुदकुशी करने को मजबूर है।’ उन्होंने कहा कि माल्या जैसे कई लोग हैं, जिन पर करोड़ों रुपये का कर्ज बकाया है।

केजरीवाल ने कहा कि ‘भगत सिंह मानते थे कि सिर्फ अंग्रेजों को देश से निकाल देने भर से आजादी नहीं आएगी बल्कि साम्राज्यवाद और गरीबी को जड़ से मिटाना होगा।’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘हाल में मैं पंजाब गया था जहां किसान खुदकुशी कर रहे हैं। मुझे बताया गया कि किसानों ने फसलों के लिए कर्ज लिया था, लेकिन फसल बर्बाद होने के कारण वे कर्ज नहीं चुका पा रहे और खुदकुशी कर रहे हैं।’ केजरीवाल ने कहा कि ‘उन्हें यह भी पता चला कि कुछ किसानों ने इलाज का खर्च वहन न कर पाने के कारण खुदकुशी की।’ (NDTV)

Loading...