गुजरात के अहमदाबाद में उना दलित उत्पीडन कांड के पीड़ितों से मुलाकात करने पहुँची बसपा प्रमुख मायवती ने कहा कि गुजरात में दलित, मुस्लिम, आदिवासी और पिछड़े इकट्ठा होकर सत्ता की चाबी अपने हाथों में लें. उन्होंने आगे कहा कि ये समुदाय अब न्याय मांगने वालों के बजाय दूसरों को न्याय देने वाले बनें. मैं पीड़ितों से कहना चाहती हूं कि अगर अपना बदला लेना है तो सत्ता की चाबी अपने हाथ में लेनी होगी.

अहमदाबाद लोगों को संबोधित करते हुए मायावती ने कहा कि दलित आत्महत्या के बजाय मजबूत बनें और असामाजिक तत्वों से लड़ने के लिए मुस्लिम, आदिवासी और पिछड़ों के साथ मिलकर गुजरात की हवा बदलें। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब के अनुयायी अब आत्महत्या नहीं करेंगे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मायावती ने दलित पीड़ितों का का इलाज फ्री कराने का आश्वासन देते हुए पीड़ितों को दो-दो लाख रु की आर्थिक मदद देने का ऐलान भी किया.