दलित, मुसलमान, आदिवासी, गुलाम और जाट के बाद अब हनुमान को ठाकुर और किसान बताया गया है। लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुनील सिंह ने उन्हें किसान करार दिया है।

मथुरा में रघुराज सिंह ने कहा कि भगवान राम और कृष्ण भी ठाकुर थे और अधिकांश ऋषि मुनि भी ठाकुर थे। उन्होंने कहा कि हनुमान जी भी ठाकुर थे। सिंह ने इस दौरान ठाकुर की परिभाषा भी बताई। उन्होंने कहा कि जो त्याग, तपस्या और बलिदान करे, वही ठाकुर है।

लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुनील सिंह ने अलीगढ़ में मीडियाकर्मियों से बात करते हुए हनुमान जी को किसान बताया। सिंह ने कहा, ‘हनुमान जी किसान थे जिन्होंने धनी रावण के खिलाफ लड़ाई लड़ी।’ इस दौरान सिंह ने यह भी कहा कि आज के हनुमानों को अंबानी और अडानी जैसे उद्योगपतियों से लड़ना होगा।

उन्होने ये भी कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने हनुमान को गलत नहीं बताया, जब सीता मैया का हरण हुआ था तो भगवान राम जी ने हनुमान जी से सहयोग लिया। उन्होंने आगे कहा कि विश्व में केवल एक ही धर्म है और वह है सनातन धर्म। सनातन धर्म से ही यह सब सारी ब्रांचेस जातियां अलग-अलग भागों में बांटी गई हैं।

इतना ही नहीं उन्होने ये भी कहा कि मुसलमान भी हिंदू हैं, क्रिश्चियन भी हिंदू हैं। जो त्याग, तपस्या और बलिदान दे वह ठाकुर है। राज्य मंत्री रघुराज सिंह ने हनुमान के साथ-साथ सभी भगवान को ठाकुर बता दिया।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन