देश भर में गौरक्षा के नाम पर हो रही दलितों और मुस्लिमों की हत्या को लेकर आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष और हैदरबाद से लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि देश में जब ताज बीजेपी सांस्कृतिक राष्ट्रवाद को नहीं छोड़ती दलित-मुस्लिम मारे जाते रहेंगे.

ओवैसी ने इन घटनाओं के लिए केंद्र की मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि मोदी सरकार धर्म को आईडियोलॉजी के तौर पर प्रमोट कर रही है. जो हमारे संविधान के खिलाफ़ है. जब तक बीजेपी सांस्कृतिक राष्ट्रवाद को मानेगी मॉब लिंचिंग की घटनाएं होती रहेंगी, दलित मुसलमान मारे जाते रहेंगे. औवेसी ने कहा कि जिस दिन बीजेपी ने संवैधानिक राष्ट्रवाद को मानेगी मॉब लिंचिंग खत्म हो जाएगी.

लोकसभा सांसद ने कहा कि ये सरकार अपनी संवैधानिक जिम्मेदारियों को निभाने में नाकाम साबित हुई है. कर्नाटक, केरल और बीजेपी शासित राज्यों में मुसलमानों और दलितों को टारगेट कर मारा जा रहा है. आज देश में मुसलमान खुद को असुरक्षित महसूस कर रहा है.

अलीगढ़ की एक घटना का हवाला देते हुए ओवैसी ने कहा कि अलीगढ़ रेलवे स्टेशन पर नजीमुल हसन नामक इंजीनियर को बुर्कें में सफर करते हुए रेलवे पुलिस ने पकड़ा जब रेलवे पुलिस ने नजीमुल से बुर्का पहनने की वजह पूछी तो उसने बताया कि तीन दिन पहले मुझे लोगों ने मारा था, मैने खुद को मॉब लिंचिंग से बचाने के लिए बुर्का पहना है.

औवेसी ने देश के हिंदुओं से अपील करते हुए कहाकि 5000 साल की परंपरा को बचाने के लिए हमको आगे आना होगा. औवेसी ने हिंदुस्तान के तमाम हिंदू भाईयों से अपील करते हुए कहाकि हिंदुत्व से देश को बचाइए. हमारी लड़ाई हिदुज्म से नहीं है हिदुत्व से है. हिंदुत्व से देश को खतरा है। ये सरकार हिंदुत्व को प्रमोट कर रही है. और टारगेट किलिंग कर रही है मुसलमानों और दलितों की। जब तक मोदी सरकार रहेगी मॉब लिंचिंग होती रहेगी.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?