Thursday, July 29, 2021

 

 

 

दिल्ली हिंसा पर कपिल सिब्बल बोले – ‘गायों की सुरक्षा कर सकते है लेकिन इंसानों की नहीं’

- Advertisement -
- Advertisement -

दिल्ली में भड़की मुस्लिम विरोधी हिंसा को लेकर राज्यसभा में चर्चा के दौरान कांग्रेस सांसद कपिल सिब्बल ने कहा कि यह साफ है कि पुलिस उन लोगों की मदद कर रही थी जो हिंसा भड़का रहे थे और इसी का नतीजा है कि निर्दोष लोगों की जानें गईं जिनका इन दंगों से कोई लेना-देना नहीं था।’ उन्होंने सत्तारूढ़ बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि आप जो वायरस आप फैला रहे हैं उसकी दवाई हम हैं। उन्होंने यह भी कहा कि उज्ज्वला योजना में जो गैस सिलेंडर मिले थे, उनमें आग लगाकर दंगाई लोगों के घरों में फेंक रहे थे।

सिब्बल ने कहा कि 26 फरवरी को 85 साल के बुजुर्ग को तीसरे फ्लोर पर जिंदा जला दिया गया। करवाल नगर में दो लोगों को रोका गया। दोनों चुप रहे। फिर उसके कपड़े उतारे गए और मार दिया गया। मोहम्मद अख्तर का सारा घर जला दिया गया। मेरे पास 40 लोगों की मौत के आंकड़े हैं, जिसके मुताबिक 32 एक और आठ दूसरे समुदाय के लोग हैं।उन्होंने आगे कहा कि बालाकोट में आपने सर्जिकल स्ट्राइक किया वह सही था, लेकिन अपने लोगों पर क्यों कर रहे हैं। अपनी जनता पर सर्जिकल स्ट्राइक मत करो। उन्होंने प्रधानमंत्री पर भी 70 घंटों तक चुप रहने का आरोप लगाया है।

कांग्रेस नेता ने पूछा कि “आप गाय को बचाने के लिए कुछ भी कर सकते हैं, क्या इंसानी जीवन को बचाने के लिए कुछ भी नहीं कर सकते हैं? क्या इंसानी जीवन की रक्षा के लिए हमें अलग से कानून लाने की जरूरत है?” उन्होंने उस व्यक्ति की घटना को भी उठाया जिसे राष्ट्रगान गाने के लिए मजबूर किया और बाद में उसने पिटाई से चोटों के कारण दम तोड़ दिया। “हर कोई जानता था कि क्या हो रहा है, दिल्ली पुलिस कुछ नहीं जानती थी।”

कपिल सिब्बल ने गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधते हुए कहा कि आप तो लौह पुरुष हैं। सरदार पटेल की जगह पर बैठे हैं। अपने सरदार का कुछ तो ख्याल कीजिए। उन्होंने कभी नहीं चाहा होगा कि दिल्ली में ऐसा होगा। कांग्रेस सांसद ने कहा कि दिल्ली दंगों के दौरान मोदी और आप (अमित शाह) डोनाल्ड ट्रंप के स्वागत में बिजी थे। केंद्र सरकार ने इस दौरान हिंसा पर कोई बयान नहीं दिया। पुलिस को क्या कोई इशारा दिया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles