आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने मोदी सरकार द्वारा रक्षा, फार्मा, नागरिक उड्डयन, भारत में बने खाद्य पदार्थों में 100 फीसदी विदेशी निवेश को मंजूरी को लेकर आलोचना करते हुए कहा कि पीएम ने एफडीआई लाने के यूपीए के फैसले को देश को बेचने वाला फैसला बताया था. अब कोर सेक्टरों में सौ फीसदी एफडीआई से क्या ये मान लिया जाए कि उन्होंने देश को बेच दिया है.

लालू ने इस बारे में ट्वीट कर कहा कि डिफेंस में सौ फीसदी विदेशी निवेश की बजाय सरकार को घरेलू डिफेंस कंपनियों को मजबूत करना चाहिए था. यदि डीआरडीओ, एचएएल, ओएफबी को मजबूत किया जाता तो हमें ज्यादा कुछ हासिल हो सकता था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

लालू ने पीएम मोदी के एक पुराने ट्वीट जिसमे  कांग्रेस शासन काल के दौरान रिटेल सेक्टर में एफडीआई का विरोध किया गया था, को शेयर करते हुए लिखा कि ‘पीएम की कथनी-करनी में जमीन-आसमान का अंतर है. खुदरा व्यापारी के हित में कसीदे पढ़ने वाले आज उन्हें ही रौंदने में लगे हैं.