कांग्रेस ने एनआईए प्रमुख को तत्काल हटाने की मांग की है। कांग्रेस ने ये मांग मालेगांव विस्फोट मामले में एक विशेष अदालत के आदेश के बाद की हैं।

पार्टी ने अदालत के आदेश का हवाला देते हुए मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि यह जाहिर होता है कि किस प्रकार जांच एजेंसी का उपयोग भाजपा और आरएसएस के प्रति हमदर्दी रखने वालों को आरोप मुक्त करवाने के लिए किया जा रहा है।

कांग्रेस प्रवक्ता शोभा ओझा ने कहा कि, ‘‘मालेगांव विस्फोट मामले में अदालत का हालिया आदेश एक बार फिर से यह जाहिर करता है कि किस प्रकार एनआईए का उपयोग भाजपा और आरएसएस के प्रति हमदर्दी रखने वाले लोगों को आरोप मुक्त करवाने के लिए किया जा रहा है।’’

उन्होंने आगे कहा कि अदालत का मानना था कि प्रथम दृष्टया साध्वी प्रज्ञा अब भी मामले की आरोपी हैं, इससे एनआईए की कार्यप्रणाली पर संदेह उत्पन्न हो रहा है और यह देश के लिए चिंता की बात है।
कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें