Sunday, August 1, 2021

 

 

 

मायावती की समर्थन वापसी की धमकी, कांग्रेस ने लिए दलितों के खिलाफ केस वापस

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली। बसपा सुप्रीमो मायावती द्वारा राजस्थान और मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार से समर्थन वापस लेने की धमकी लेने के बाद मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार और राजस्थान में गहलोत सरकार ने दलितों के ख़िलाफ़ चल रहे केसों को 24 घंटों के भीतर वापस लेने का फैसला किया।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को कहा कि राज्य सरकार पिछले साल दो अप्रैल को भारत बंद के दौरान दलितों के खिलाफ दर्ज मामलों की समीक्षा करने के बाद उन्हें वापस लेगी। गहलोत ने कहा कि उनकी सरकार किसी भी बेगुनाह शख़्स के साथ नाइंसाफ़ी नहीं होगी देगी।

कांग्रेस कार्यालय पर मीडिया से बात करते हुए गहलोत ने कहा, “हमारी सरकार इस तरह के सभी मामलों की समीक्षा करेगा ताकि बेगुनाहों की रिहाई सुनिश्चित की जा सके। उन्होंने कहा कि मायावती की मांग जायज है। पिछली सरकार ने कई लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किए थे और इसलिए हमारी सरकार ऐसे सभी मामलों की समीक्षा करेगी।

उन्होंने कहा, “मैं हमारी पार्टी को समर्थन देने के लिए मायावती का धन्यवाद करता हूं। उन्होंने खुद कांग्रेस को समर्थन देने की पहल की थी और इसलिए मैं उनका धन्यवाद करता हूं। गहलोत ने कहा कि वो उन सभी मामलों को देखेंगे जिनके पीछे कोई आधार नहीं था। जब उनसे पूछा गया कि क्या वो मायावती की धमकी की वजह से ऐसा कर रहे हैं तो उनका जवाब था कि सरकार धमकियों से नहीं चलती है। राजस्थान सरकार का स्पष्ट मत है कि किसी भी शख्स के खिलाफ रंजिशन मामला नहीं दर्ज होना चाहिए। 

बता दें कि मायावती ने साफ शब्दों में कहा था कि ‘2 अप्रैल 2018 को भारत बंद के दौरान एससी/एसटी एक्ट 1989 के तहत राजस्थान और मध्यप्रदेश में जो केस दर्ज किया गया था उसे वापस लिया जाए, नहीं तो हमारी पार्टी कांग्रेस से समर्थन वापस ले लेगी।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles