Thursday, January 27, 2022

राज्यसभा में CAB पास कराने में रही कांग्रेस, एनसीपी, सपा के सांसदों की भी भूमिका

- Advertisement -

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर विपक्षी पार्टी कांग्रेस, एनसीपी, सपा जैसी पार्टियों ने जमकर बवाल काटा हुआ है। लेकिन राज्यसभा में इस कानून के बिल को पास कराने में इन पार्टियों की भी ख़ासी भूमिका रही।

राज्यसभा में बहुमत नहीं होने के बावजूद सरकार बिल पास कराने में सफल रही। दरअसल, इस इस दौरान कांग्रेस,राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी), बहुजन समाज पार्टी (बसपा), समाजवादी पार्टी, टीआरएस और जेडीएस के कई सांसद सदन में मौजूद नहीं थे। जबकि उनकी पार्टी ने इस बिल का विरोध किया था। कांग्रेस की सहयोगी शिवसेना ने सदन से वॉकआउट कर दिया था।

बता दें कि सदन में कुल 125 सांसदों ने बिल के समर्थन में वोट दिया था, जबकि विरोध में 99 वोट पड़े। वोटिंग के दौरान राज्यसभा में 224 सांसद मौजूद थे। बहुमत के लिए 113 वोट चाहिए थे। बिल को लेकर बीजेपी ने उम्मीद जताई थी कि इसके समर्थन में 124 से लेकर 130 वोट आ जाएंगे। 125 वोटों के साथ वह इस कयास पर खरे उतरे।  दूसरी ओर बिल के विरोध में 110 वोट डाले जाने की उम्मीद जताई जा रही थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

कांग्रेस की अगुवाई वाले ‘यूपीए’ में 64 सांसद हैं और उन्हें अन्य दलों जैसे- तृणमूल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, तेलंगाना राष्ट्र समिति, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (एम) व अन्य के 46 सांसदों के साथ आने की उम्मीद थी। यानी साफ है कि बिल के विरोध में 110 वोट पड़ने चाहिए थे लेकिन मिले सिर्फ 99। एनसीपी के दो सदस्य सदन में मौजूद नहीं थे। टीएमसी और एसपी के एक-एक सांसद भी बुधवार को राज्यसभा नहीं पहुंचे। वोटिंग से पहले शिवसेना के तीन सांसदों ने हाउस से वॉकआउट कर लिया।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles