गांधीनगर | कांग्रेस के लिए साख का सवाल बन चुके गुजरात राज्यसभा चुनावो में पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल की मुश्किलें बढती दिख रही है. मिली जानकारी के अनुसार चुनाव में कांग्रेस विधायको की तरह से क्रॉस वोटिंग की खबरे आ रही है. ऐसे में अहमद पटेल का राज्यसभा में पहुंचना मुश्किल हो सकता है. हालाँकि कांग्रेस की तरफ से इन बातो का खंडन किया गया है. उनका मानना है की अहमद पटेल को जितनी वोटो की जरुरत थी वो उनको मिल गयी है.

मंगलवार को गुजरात की तीन राज्यसभा सीटो के लिए मतदान हो रहा है. इनमे कांग्रेस की तरफ से अहमद पटेल की इज्जत दांव पर लगी हुई है. बीजेपी की और से अहमद पटेल को हारने की पूरी कोशिश की गयी है. इसी प्रयास में कांग्रेस के करीब 6 विधायक बीजेपी में शामिल हो चुके है. वही कांग्रेस के दिग्गज नेता शंकर सिंह वाघेला भी पार्टी छोड़ चुके है. हालाँकि दिग्विजय सिंह ने वाघेला से क्षत्रिय धर्म निभाने की अपील करते हुए अहमद पटेल को वोट देने की बात कही थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

लेकिन इन सबके बावजूद उन्होंने अहमद पटेल को वोट नही दिया. वाघेला ने मतदान करने के पश्चात कहा की उनका वोट अहमद पटेल को नही गया है. उधर खबर यह भी है की कांग्रेस के 44 विधायको में से एक विधायक ने क्रॉस वोटिंग की है. क्रॉस वोटिंग करने वाले विधायक का नाम करमसी भाई पटेल है और वो सानंद से विधायक है. हालाँकि प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अर्जुन मोडवाडिया का कहना है की हमारी तरफ से कोई क्रॉस वोटिंग नही हुई है. हमारे पास पर्याप्त संख्या बल है. हमें एनसीपी के 2 विधायको और एक जेडीयु के विधायक का समर्थन प्राप्त है.

हालाँकि एनसीपी की और से भी क्रॉस वोटिंग होने की खबरे है. एनसीपी के विधायक कांधल जडेजा ने स्पष्ट कहा है की उन्होंने बीजेपी को वोट दिया है. हालाँकि दुसरे विधायक ने कांग्रेस को वोट देने की बात स्वीकार की है. वही जेडीयू के इकलौते विधायक छोटू भाई बसावा ने अहमद पटेल को वोट दिया है. उन्होंने कहा की मुझे पार्टी की और से कोई व्हिप नही मिला था. छोटू भाई जेडीयु नेता शरद यादव के करीबी माने जाते है. दरअसल राज्यसभा में जाने के लिए अहमद पटेल को 45 वोटो की जरुरत है.

Loading...