megha

megha

मेघालय में हुए विधानसभा चुनावों के परिणामों के अनुसार किसी भी राजनितिक दल को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है. हालांकि कांग्रेस राज्य में सबसे बड़ी पार्टी बनकर सामने आई है. ऐसे में अब कांग्रेस की और से सरकार बनाने का दावा किया जा चूका है.

देर रात मेघालय कांग्रेस के अध्यक्ष विंसेंट पाला और कांग्रेस के महासचिव सीपी जोशी ने राज्यपाल गंगा प्रसाद से मुलाकात की और सरकार बनाने का दावा पेश किया. लेटर के मुताबिक कांग्रेस चाहती है कि उसे राज्य में संवैधानिक नियमों के अनुसार जल्द सरकार बनाने का निमंत्रण मिलना चाहिए. कांग्रेस का दावा है कि वो तय समय पर विधानसभा में अपना बहुमत सिद्ध कर देगी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

60 सदस्यीय विधानसभा (अभी 59 सीटों पर ही चुनाव हुए) में 21 सीटें जीतकर मेघालय में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए अभी 10 और विधायकों का समर्थन चाहिए. कांग्रेस के बाद 19 सीटों के साथ दूसरे नंबर पर रही नैशनल पीपल्स पार्टी (एनपीपी) से बीजेपी लगातार संपर्क में है और अन्य क्षेत्रीय दलों को साथ लाने की कोशिश कर रही है.

हालांकि कांग्रेस के नेताओं का दावा है कि उनके पास 32 विधायकों का समर्थन है. इनके सहयोग से वह राज्य में सरकार का गठन करने जा रहे हैं. रविवार को 11 बजे कांग्रेस के विधायक दल की मीटिंग होनी है, जिसमें सभी विधायक अपना नेता चुनेंगे और मुख्यमंत्री पद के लिए उसका नाम आगे किया जाएगा. उम्मीद की जा रही है कि मौजूदा मुख्यमंत्री मुकुल संगमा के नाम पर ही फिर से मुहर लगेगी.

ध्यान रहे अहमद पटेल यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी के निर्देश पर मेघालय में ही मौजूद है. कांग्रेस वरिष्ठ नेता कमल नाथ भी मेघालय में ही उनके साथ है. माना जा रहा कि कांग्रेस मेघालय में गोवा और मणिपुर वाली गलती दोहराने के मूड में नहीं है.

Loading...