uni

गुजरात के नर्मदा जिले में सरदार पटेल की भव्य प्रतिमा ‘स्टैच्यू आफ यूनिटी’ का निर्माण लगभग पूरा होने को है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 31 अक्टूबर को इसका उद्धाटन करेंगे। ऐसे में अब कांग्रेस ने बड़ी मांग करते हुए कहा कि मूर्ति के नीचे RSS पर लगे बैन का आदेश भी लगाया जाना चाहिए।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने कहा कि सरदार वल्लभभाई पटेल के 1948 में आरएसएस को प्रतिबंधित करने वाला आदेश विशालकाय प्रतिमा के नीचे लगाया जाना चाहिए। शर्मा ने कहा कि सरदार पटेल की प्रतिमा के नीचे उनके आरएसएस के बारे में कहे गए कथन लिखने से लोगों को पता चलेगा कि देश के पहले गृह मंत्री आरएसएस के बारे में क्या सोचते थे।

आनंद शर्मा ने कहा कि आरएसएस-बीजेपी के पास अपने ऐसे लीडर नहीं है इसलिए ये सरदार पटेल की प्रतिमा बना रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रतिमा चीन निर्मित है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘उनके (आरएसएस और बीजेपी) के अपने नायक नहीं हैं, इसलिए वे सरदार पटेल की ‘स्टैच्यू आफ यूनिटी’ बना रहे हैं और वह भी चीन में निर्मित है। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘महात्मा गांधी की हत्या के बाद पटेल का 1948 में लिखित एक आदेश है। उस आदेश को प्रतिमा के नीचे लगाया जाना चाहिए ताकि देश को उनके बारे में पटेल की सोच का पता चले।’’

यद्यपि वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने आरएसएस का नाम नहीं लिया, लेकिन उनका इशारा परोक्ष रूप से गांधी की ह’त्या के बाद संगठन पर लगाए गए प्रतिबंध की ओर था जिसे बाद में हटा लिया गया था।

Loading...