nitish speaking 4

सोमवार को  बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल (यूनाईटेड) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने बीजेपी से गठबंधन पर अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय के समक्ष सफाई पेश करते हुए कहा कि बे को चलाने की जिम्मेदारी उनकी है और वो सांप्रदायिकता से कोई समझौता नहीं करेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अल्पसंख्यकों के विकास के लिए जो भी करना है करेंगे। सूबे में अपराध और करप्शन किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सांप्रदायिकता से कभी समझौता नहीं किया और आगे भी नहीं करेंगे। इस दौरान उन्होंने विपक्ष को भी निशाने पर लिया। नीतीश ने कहा कि कुछ लोग जाति के नाम पर बिना सिद्धांत की राजनीति करते हैं, जो गलत है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अल्पसंख्यक समुदाय के लिए तीन योजनाओं का शुभारंभ भी किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘हम सेवा करने वाले हैं, हमको वोट की चिंता नहीं है।’ उन्होंने कहा कि ‘मैं वादा करता हूं अल्पसंख्यक समाज को मुख्यधारा में लाऊंगा।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

साथ ही उन्होंने हर जिले में एक अल्पसंख्यक विद्यालय का निर्माण कराने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि वक्फ बोर्ड की जमीन पर भवन बनेगा। इस भवन में लाइब्रेरी और ऑडिटोरियम का भी निर्माण कराया जायेगा। यह भवन व्यावसायिक उद्देश्य से बनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि वर्ष 2020 की ईद में अंजुमन इस्लामिया हॉल के नये भवन का उद्घाटन किया जायेगा।

सीएम नीतीश कुमार ने एेलान किया कि उर्दू के लिए 102 पदों पर बहाली की जाएगी और साथ ही अरबी में भी 6 खाली जगहों पर बहाली की जाएगी। उन्होंने कहा कि बहाली के लिए बीपीएससी को इसके लिए सुझाव भेजा गया है। मुख्यमंत्री ने वक्फ बोर्ड के चेयरमैन को नसीहत देते हुए कहा कि बोर्ड के लोग थोड़ा मेहनत करें।

Loading...