kamal nath 621x414

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किसानों की क़र्ज़माफ़ी का वादा पूरा करने के साथ ही बेरोजगारो के लिए भी बड़ा कदम उठाया है।

कमलनाथ ने एक नए तरह के नियम को मंज़ूरी दी। इस नियम के तहत राज्य के उद्योगों में 70 फ़ीसदी रोजगार मध्य प्रदेश के युवाओं को दिए जाएंगे। यानी अब ऐसे उद्योगों को ही छूट दी जाएगी, जिनमें 70 फ़ीसदी रोज़गार मध्य प्रदेश के लोगों को दिया गया होगा।

Loading...

बता दें कि कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही सोमवार को कहा था कि मध्य प्रदेश में ऐसे उद्योगों को छूट दी जाएगी, जिनमें 70 प्रतिशत नौकरी मध्य प्रदेश के लोगों को दी जाएगी। कमलनाथ ने कहा था, ‘बिहार और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों के लोगों के कारण मध्य प्रदेश के स्थानीय लोगों को नौकरी नहीं मिल पाती है।’

हालांकि राज्य के  युवाओं के लिए रोजगार को लेकर जैसे ही घोषणा की तो उत्तर भारतीयों के बयान पर वो भी घिर गए।एएनआई यूपी के मुताबिक, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री कमलनाथ के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि ये गलत है। अक्सर यही बात महाराष्ट्र से भी सुनते हैं कि उत्तर भारतीय क्यों आते हैं। वे लोग यहां नौकरियों के लिए जाते हैं।

वहीं जनता दल (युनाइटेड) के प्रवक्ता नीरज कुमार ने कमलनाथ के इस बयान को संघीय ढांचे पर हमला बताते हुए कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी प्रतिदिन संविधान बचाने का प्रलाप करते हैं और उनके मुख्यमंत्री क्षेत्रीयता को बढ़ावा देने की बात कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘बिहार के लोग अपनी मेहनत के बल पर रोजगार पाते हैं। जद (यू) ऐसे बयानों की निंदा करती है जिससे क्षेत्रवाद को बढ़ावा मिलता है।’ उन्होंने कहा कि यह बयान बिहार और उत्तर प्रदेश के लोगों का अपमान है। इन राज्यों के कांग्रेसी नेताओं को भी ऐसे बयानों की निंदा करनी चाहिए।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें