नागरिकता संशोधन कानून 2019 को लेकर जारी विरोध के बीच मेघायल के राज्‍यपाल तथागत रॉय ने एक विवादित बयान दिया है। उनका कहना है कि नागरिकता संशोधन कानून को न चाहने वाले उत्‍तर कोरिया चले जाएं।

रॉय ने ट्वीट किया, ‘लोकतंत्र अनिवार्य रूप से विभाजनकारी है। अगर आप इसे नहीं चाहते हैं तो उत्तरी कोरिया (North Korea) चले जाइए।’ राज्यपाल इस ट्वीट के जरिए परोक्ष रूप से नए नागरिकता कानून का समर्थन कर रहे थे।

उन्होंने कहा, ‘विवाद के वर्तमान माहौल में दो बातों को कभी नहीं भूलना चाहिए – 1. देश को कभी धर्म के नाम पर विभाजित किया गया था। 2. लोकतंत्र अनिवार्य रूप से विभाजनकारी है। अगर आप इसे नहीं चाहते तो उत्तर कोरिया चले जाइए।’

वहीं दूसरी और असम में नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन को नियंत्रित करने के लिए राजधानी गुवाहाटी और अन्य स्थानों पर सेना और असम राइफल्स की तैनाती कर दी गयी है।

पीटीआई के मुताबिक रक्षा जनसंपर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल पी खोंगसाई ने कहा, ‘अब तक कुल आठ टुकड़ियां लगायी गयी हैं जिनमें एक बोगांइगांव, एक मोरीगांव, गुवाहाटी में चार और सोनितपुर में दो टुकड़ियां तैनात की गयी हैं।’ सेना की हर टुकड़ी में 70 जवान हैं।

जनसंपर्क अधिकारी ने आगे कहा कि बिगड़ती कानून व्यवस्था को नियंत्रण में लाने के लिए गुवाहाटी सहित इन सभी क्षेत्रों के नागरिक प्रशासन ने सेना और असम राइफल्स की मांग की थी।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन