कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत पर निशाना साधते हुए सवाल उठाया कि क्या सबसे बड़े अल्पसंख्यक समुदाय या महिलाओं या पिछड़े समुदायों को अलग रखकर लंबे वक्त की आर्थिक तरक्की सुनिश्चित की जा सकती है?

उन्होंने कहा, ‘यह जीत भाजपा ने 403 सीटों वाले प्रदेश में एक भी मुस्लिम को टिकट नहीं देकर हासिल की है जहां 19.3 फीसदी मुस्लिम आबादी है. ऐसे में ‘सबका साथ, सबका विकास’ के नारे का एक नया और भयावह अर्थ निकला है.

‘द हिंदू सेंटर फॉर पॉलिटिक्स एवं पब्लिक पॉलिसी’ की ओर आयोजित एक सेमिनार में उन्होंने कहा, ‘उस परिस्थिति की कल्पना करिए जिसमें कोई एक राष्ट्रीय पार्टी किसी महिला को टिकट नहीं दे या उस हालात के बारे में सोचिए, जहां एक राष्ट्रीय पार्टी अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सीटों पर उम्मीदवार खड़ा करने से इंकार कर दे.

चिदंबरम ने कहा, ‘‘मैं आपसे पूछता हूं कि क्या सबसे बड़े अल्पसंख्यक समुदाय या महिलाओं या अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति को विधानसभा चुनाव लड़ने से अलग रखकर दीर्घकालीन आर्थिक प्रगति सुनिश्चित की जा सकती है?’’ (एजेंसी)

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?