बीजेपी की और से मुजरिमों का महिमामंडन लगातार जारी है। झारखंड के रामगढ़ में कथित गौरक्षा के नाम पर पीट-पीट कर की गई अलीमुद्दीन अंसारी के हत्यारों से केन्द्रीय मंत्री जयंत सिन्हा के बाद अब गिरिराज सिंह ने भी बिहार दंगों के आरोपियों से जेल मे मुलाक़ात की।

नवादा जेल पहुंचे केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने दंगों के आरोपियों बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं से मुलाक़ात की। गिरिराज सिंह ने आरोपियों के समर्थन में कहा, “उन्होंने हमेशा सभी परिस्थितियों में शांति बनाए रखने में मदद की है। आप उन्हें दंगाई कैसे कह सकते हैं? प्रशासन को देखना चाहिए कि क्या उन्होंने वास्तव में हिंसा को उकसाया है?”

बता दें कि अप्रैल 2017 में राम नवमी के दौरान हुई हिंसा के बाद पुलिस ने विभिन्न जिलों के कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया था। अभी चार दिन पहले ही इस हिंसा में शामिल होने के आरोप में बजरंग दल के जितेंद्र प्रताप और विश्व हिंदू परिषद के कैलाश विश्वकर्मा को गिरफ्तार किया गया है।

गिरिराज सिंह ने कहा कि बजरंगियों की गिरफ्तारी कर पुलिस ने लोगों को उकसाने का काम किया है। ये लोग हाथ जोड़कर दुकानों को बंद करा रहे थे और अत्याचार की बात बता रहे थे। इसके बावजूद उन्हें गिरफ्तार किया गया।

गिरिराज ने यह भी कहा कि आंदोलन करना और सहयोग देना देश की जनता का संवैधानिक अधिकार है, लेकिन यहां की पुलिस इस बात को दरकिनार कर मनमानी कर रही है।  बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं के खिलाफ जो कार्रवाई हुई है, वह हिंदुओं को उकसाने वाली है। यह पूरी तरह गलत है।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?