विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मोदी सरकार को घेरते हुए कहा कि सीबीआई ने न केवल मेहुल चोकसी को भारत से भगाया बल्कि विजय माल्या के केस को भी कमजोर किया।

केजरीवाल ने शनिवार को ट्वीट कर कहा, ”सीबीआई ने लंदन में माल्या के केश को कमजोर किया। चोकसी को भागने में और दूसरे देश की नागरिकता पाने में मदद की और उसके बाद मोदी सरकार प्रत्यर्पण की मांग का नाटक करती है। ये तो देश के साथ गद्दारी है न।”

अरविंद केजरीवाल ये ट्वीट ऐसे वक्त आया, जब एंटिगुआ सरकार ने दावा किया है कि भारत और यहां की जांच एजेंसियों से क्लीनचिट दिए जाने के बाद ही उसने मेहुल चोकसी को अपने देश की नागरिकता दी है। वहीं सीबीआई का कहना है, उससे बाहर की किसी एजेंसी ने संपर्क नहीं किया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

एंटीगुआ की ओर से कहा गया है कि अगर भारत सरकार की ओर से मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण के लिये कहा जाता है तो यहां की सरकार उसके अनुरोध का सम्मान करेगी।

दूसरी और काँग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह दुखद है कि मोदी सरकार बैंको को ठगने वालों को देश से बाहर भागने से रोकने और उनको कानून की जद में लाने में विफल रही। हमारा सवाल है कि चोकसी ने हांगकांग, यूएई, बेलिज्यम, ब्रिटेन, अमेरिका और एंटिगुआ की यात्रा कैसे की?’’

Loading...