राफेल विवाद में पैरा 25 में गलती के बाद केंद्र सराकर संशोधन के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंची है तो दूसरी और कांग्रेस मोदी सरकार पर सुप्रीम कोर्ट को गुमराह करने का आरोप लगा रही है। ऐसे में अब भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी की प्रतिक्रिया आई है।

स्वामी का कहना है, ‘मीडिया के अनुसार, अटॉर्नी जनरल ने कहा है कि उन्होंने ऐफिडेविट तैयार नहीं किया है। किसने ऐफिडेविट तैयार किया? मुझे लगता है कि पीएम को ये पता करना चाहिए। यह उन्हें शर्मिंदा करता है कि क्या हम अंग्रेजी में शुद्ध ड्राफ्ट भी तैयार नहीं कर सकते। इसे हिंदी में तैयार किया जा सकता था।’

Loading...

उन्होंने आगे कहा कि ‘जब भी ऐफिडेविट सील कवर में सौंपा जाता है, तो सवाल उठते ही हैं, इस बार उन्होंने फैसले में सौंपे जाने का खुलासा किया, नहीं तो हमें पता ही नहीं चलता। अगर जज इसपर अपना निर्णय लेते तो ये फैसले को प्रभावित करता।’ उन्होंने आगे कहा, “राफेल मामले पर सीएजी की रिपोर्ट पीएसी के समक्ष रखे जाने का दावा करके सरकार संसद के दोनों सदनों के विशेषाधिकार का हनन करने की दोषी है।”

वहीं दूसरी और कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी का कहना है, “जिस तरह पीएम गुमराह करते हैं मेरे दिमाग में एक नया नाम इनके लिए आया है। इनका नाम मिस्टर गुमराह है। सुप्रीम कोर्ट को गुमराह करते हैं, देश को गुमराह करते हैं, किसान को गुमराह करते हैं, नौजवान को गुमराह करते हैं, गुमराही के अलावा देश को मोदी जी से कुछ नहीं मिला।”

पी तिवारी ने आगे कहा, “कोच फैक्ट्री की स्थापना तो सोनिया जी ने की थी, जिस सड़क का उद्घाटन किया, वह भी यूपीए और सोनिया जी की देन है। कब तक उधार के सिंदूर से काम चलाएंगे। अपने कार्यों का उद्धाटन कब करेंगे।”

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें