gaj

राजस्थान में विधानसभा चुनाव की तैयारी का जायजा लेने पहुंचे केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के सामने उस समय असमंजस की स्थिति पैदा हो गई जब कार्यक्रम में एक बीजेपी कार्यकर्ता ने जीएसटी और नोटबंदी की आलोचना में उन्हे एक कविता सुना दी।

दरअसल, बुधवार को केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर ने कोटा जिले के एक होटल में बैठक की। यहां उन्होंने सरकार को लेकर जनता की राय जानी। इस दौरान कोटा देहात कार्यकारिणी पदाधिकारी ने कहा कि आप हमसे कहते हो कि जनता के बीच जाओ और लोगों को जोड़ो। जब जनता हमें कोई काम बताती है और हम विधायकों को वह काम कराने के लिए कहते हैं तो वे हमारा काम कराने की बजाय उल्टा करते हैं। बताओ, कैसे जनता हमसे जुड़ेगी?

इस पर संगठन महामंत्री ने उन्हें शांत करा दिया। बैठक के बीच ही एक कार्यकर्ता ने भाजपा के खिलाफ जनता के गुस्से से जुड़ी कविता सुना डाली। जीएसटी-नोटबंदी ने देश रुलाया… शीर्षक कविता सुनकर मंच पर बैठे पदाधिकारी इस कदर नाराज हुए कि उसे तत्काल मीटिंग से बाहर निकाल दिया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

bjp

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, श्याम शर्मा द्वारा कविता पाठ शुरू करने के कुछ ही देर बाद उन्हें रोक दिया गया। बैठक में मौजूद केंद्रीय मंत्री ने जब पूछा कि वे यहां कैसे आ गए, इसके जवाब में श्याम शर्मा ने कहा, “मैं भाजपा का ही कार्यकर्ता हूं। आपको सच्चाई बताने आया हूं।” इतना सुनते ही वहां मौजूद अन्य कार्यकर्ता खड़े हुए और श्याम शर्मा को भगा दिया।

इसके बाद काफी देर तक बैठक में अफरा-तफरी जैसा माहौल रहा। जैसे तैसे बाद में बैठक शुरु हुई और केंद्रीय मंत्री और प्रदेश संगठन महामंत्री ने शक्ति केंद्रों और बूथ प्रबंधन की जानकारी ली। राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा बताए गए 23 सूत्री कार्यक्रम की प्रगति का जायजा लिया। कमजोर बूथों के बारे में पूछताछ की।

Loading...