तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों में बीजेपी को मिली हार के बाद अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरोध में आवाज उठने लगी है। महाराष्ट्र में बड़े किसान नेता और स्व. वसंतराव नाईक कृषि स्वावलंबन मिशन के अध्यक्ष किशोर तिवारी ने सरसंघचालक को पत्र लिखकर मोदी की जगह गडकरी को लाने की मांग की है।

भागवत को लिखे एक पत्र के उन्होने कहा, “यदि भाजपा 2019 लोकसभा चुनाव जीतना चाहती है तो ऐसा करना चाहिए। 61 वर्षीय गडकरी कई दशक से भाजपा और आरएसएस के निष्ठावान कार्यकर्ता हैं और वर्तमान मंत्रिमंडल के सदस्य भी हैं। भाजपा के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। इसलिए वे पीएम जैसे उच्च पद के लिए पर्याप्त रूप से योग्य हैं।”

Loading...

एक प्रेस नोट के माध्यम से तिवारी ने कहा, “हाल में पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा की हार के बाद केंद्रीय नेतृत्व के तानाशाही के बारे में पार्टी के भीतर और बाहर चर्चा होने लगी है। कहा जाने लगा है कि हार की वजह अहंकारी नेता हैं, जिन्होंने नोटबंदी, जीएसटी, तेल के दामों में वृद्धि जैसे जनविरोधी फैसले लागू किए। सही से देखरेख नहीं होने की वजह से एलपीजी और मुद्रा स्कीम जैसी योजनाएं फेल हो गए। ऐसे नेता जो तानाशाही का दृष्टिकोण रखते हैं, वे समाज और देश के लिए खतरनाक है। पार्टी को उदार नेतृत्व की जरूरत है, जो सच में विकास कर सकें।”

modi

किशोर तिवारी ने ये भी कहा कि मौजूदा वक्त में बीजेपी के जमीनी कार्यकर्ता नाराज हैं। कार्यकर्ताओं का कहना है कि पार्टी में चापलूसों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। बीजेपी को आगामी चुनाव में जीत दर्ज करने के लिए प्रधानमंत्री बदलना जरूरी है। इसके लिए नितिन गडकरी उपयुक्त हैं।

बता दें कि नितिन गडकरी इस वक्त ट्रांसपोर्ट और नमामि गंगे प्रोजेक्ट के मंत्री हैं। वो बीजेपी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।महाराष्ट्र में 1995 में बीजेपी-शिवसेना सरकार में गडकरी पीडब्लूडी मंत्री थे और उस वक्त भी उनके काम की बड़ी सराहना होती है।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें