kcr45

तेलंगाना निधानसभा चुनाव में वोटिंग के बाद अब सरकार के गठन के लिए राजनीतिक दलों ने अपनी जोड़-तोड़ की राजनीति शुरू कर दी है। बीजेपी का कहना है कि नतीजों के बाद तेलंगाना में अगर त्रिशंकु की स्थिति बनी तो वो टीआरएस का साथ देने के लिए तैयार है। हालांकि बीजेपी ने इसके लिए एक शर्त रखी है।

भाजपा के तेलंगाना अध्यक्ष के. लक्ष्मण ने कहा कि किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिलने की स्थिति में भाजपा टीआरएस का समर्थन करेगी। नतीजों से पहले भाजपा के रुख में आए इस परिवर्तन के लिए एक शर्त भी रखी है। उन्होंने कहा कि टीआरएस को यह साफ करना होगा कि वह कांग्रेस या ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम  का समर्थन नहीं लेगी।

Loading...

दिलचस्प है कि केसीआर और ओवैसी आधिकारिक रूप से साथ नहीं है मगर चुनाव से पहले सार्वजनिक तौर पर दोस्ती की बात स्वीकार कर चुके हैं। न्यूज़18 से बात करते हुए तेलंगाना के बीजेपी प्रमुख के लक्ष्मण ने कहा कि बीजेपी के सपोर्ट के बगैर तेलंगाना में कोई भी पार्टी सरकार नहीं बना सकेगी। उन्होंने कहा कि बीजेपी ऐसी किसी भी पार्टी का साथ नहीं देगी जिसमें कांग्रेस और एआईएमआईएम हो।

बता दें कि तेलंगाना विधानसभा में सदस्यों की संख्या 119 है। 2014 के चुनावों में बीजेपी 45 सीटों पर चुनाव लड़ी थी और उसे पांच पर जीत मिली थी। वहीं AIMIM ने सात उम्मीदवार उतारे थे। साथ ही बाकि सीटों पर टीआरएस को अपना समर्थन दिया था।

7 दिसंबर को एक ही चरण में तेलंगाना में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे 11 दिसंबर को 4 अन्य चुनावी राज्यों के साथ आएंगे।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें