भोपाल | मध्य प्रदेश में हुए स्थानीय निकाय चुनावो में बीजेपी ने बड़ी जीत दर्ज की है. इतनी बड़ी जीत हासिल करने के बाद बीजेपी का मनोबल बढ़ा हुआ होना चाहिए. लेकिन हो इसका उल्टा रहा है. इसका कारण यह है की इन चुनावो में कांग्रेस ने भी बेहतर प्रदर्शन किया है. इन चुनावो में कांग्रेस ने अपने पिछले प्रदर्शन के मुकाबले ज्यादा सीटो पर जीत दर्ज की है. अगले साल यहाँ विधानसभा चुनावो होने है इसलिए बीजेपी के लिए यह चुनाव खतरे की घंटी साबित हो सकते है.

दरअसल मध्यप्रदेश में स्थानीय निकायों की 43 सीटो पर चुनाव हुआ था. इनमे मन्दौर की भी कुछ सीटें शामिल थी. चुनाव परिणामो के अनुसार बीजेपी ने 43 में से 26 सीटो पर कब्ज़ा किया है. वही कांग्रेस ने 14 सीटो पर जीत दर्ज की है. 3 सीटो पर निर्दलीय को जीत मिली है. वैसे तो इन चुनावो में बीजेपी ने 50 फीसदी से भी ज्यादा सीटो पर जीत दर्ज की है लेकिन पिछले चुनावो के मुकाबले बीजेपी इस बार नुक्सान में रही है.

पिछले चुनावो में बीजेपी ने 29 सीटो पर जीत दर्ज की थी. इसलिए इस बार उसे 3 सीटो पर नुक्सान उठाना पड़ा है. वही ये चुनाव कांग्रेस के लिए राहत की खबर लेकर आया है. दरअसल पिछले चुनावो में कांग्रेस को केवल 9 सीटे मिली थी. इस बार कांग्रेस को 5 सीटो का फायदा हुआ है. बीजेपी के लिए सबसे बुरी खबर मंदसौर से आई है. यहाँ बीजेपी किसी भी सीट पर जीत दर्ज नही कर पायी है.

मंदसौर जिले शांगर नगर के दो वार्डों और पंचायत गरोठ के एक वार्ड में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा. साल 2003 से बीजेपी का इस सीट पर कब्जा था. बताते चले मंदसौर वही इलाका है जहाँ किसानो ने आन्दोलन किया था. इस आन्दोलन में पुलिस की गोलीबारी से कई किसानो को अपनी जान से भी हाथ धोना पड़ा था. माना जा रहा है की यहाँ बीजेपी की हार के पीछे वही आन्दोलन बड़ी वजह रहा है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?