बीजेपी ने शिवसेना की सीएम पद की मांग को ठुकराया, 16 मंत्री पद देने को तैयार

महाराष्ट्र में अभी तक नई सरकार को लेकर स्थिति साफ नहीं हो सकी है। भाजपा और सहयोगी पार्टी शिवसेना के बीच सीएम पद के 50-50 शेयरिंग फार्मूले को लेकर खिंचतान जारी है। ऐसे में खबर सामने आ रही है कि भाजपा सीएम पद को लेकर कोई समझौता नहीं करेगी।

दरअसल, भाजपा ने सोमवार को शिवसेना के पास आखिरी प्रस्ताव भेजा है जिसमें शिवसेना को 16 मंत्री पद देने की बात है, हालांकि इसमें मुख्यमंत्री की कुर्सी साझा नहीं होगी। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की दिल्ली में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ मुलाकात के बाद यह फार्मूला आया है।

एएनआई की एक खबर में भाजपा सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि “अभी हम स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। शिवसेना के साथ बातचीत के दरवाजे खुले हुए हैं। सीएम पद पर कोई समझौता नहीं होगा, लेकिन मंत्री पद के बंटवारे को लेकर हम बातचीत कर सकते हैं।”

bjp

वहीं दिल्ली में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि ‘सरकार गठन को लेकर कोई क्या कह रहा है, इस पर कुछ नहीं बोलूंगा, लेकिन यह विश्वास है कि नई सरकार जल्द बनेगी।’

इसी बीच सोमवार को शिवसेना नेता संजय राउत ने भी राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की। मुलाकात के बाद राउत ने कहा कि ‘हमने राज्यपाल को बता दिया है कि महाराष्ट्र में सरकार न बन पाने के लिए शिवसेना जिम्मेदार नहीं है।’ राउत ने ये भी कहा कि ‘जिनके पास बहुमत है, वो सरकार बनाएं।’

इसी बीच शिवसेना को एक और निर्दलीय विधायक का समर्थन मिला है। सिरोल से निर्दलीय चुनाव जीतने वाले विधायक राजेंद्र पाटिल ने शिवसेना को समर्थन देने की घोषणा की है। उन्होंने अपना समर्थन पत्र भी शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे को सौंप दिया है।

विज्ञापन