bjp

केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए UAE की और से किए गए 700 करोड़ की मदद के ऐलान के बाद भारत की राजनीति गरमाई हुई है। बीजेपी ने इस मदद को ‘कम्युनिस्ट-इस्लामिक साजिश’ करार देते हुए कहा कि ये देश को बदनाम करने की कोशिश है।

दरअसल, यूएई के राजदूत अहमद अल बन्ना ने शुक्रवार को कहा था कि अब तक यूएई द्वारा आर्थिक मदद के लिए कोई विशेष राशि तय नहीं की गयी है। उन्होंने कहा, ‘बाढ़ के बाद बचाव की ज़रूरतों को लेकर आकलन अभी चल रहा है। जहां तक आर्थिक मदद के लिए किसी विशेष राशि की घोषणा का सवाल है, मुझे नहीं लगता कि यह अभी फाइनल है क्योंकि यह प्रक्रिया अभी चल ही रही है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बीजेपी आईटी सेल के मुखिया अमित मालवीय ने ट्वीट किया, ‘यह परेशान करने वाली बात है कि केरल में कम्युनिस्ट-इस्लामिक गठजोड़ एक अन्य देश की ओर से उस मदद पर खुश है, जो ऑफर ही नहीं की गई। दूसरी तरफ सेवा भारती जैसे संगठनों की मदद को खारिज किया जा रहा है क्योंकि उनसे वैचारिक असहमति है।’

हालांकि केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन ने कहा कि उन्होंने आर्थिक सहायता के बारे में 21 अगस्त को जो कहा था उसी पर कायम हैं और कहा कि इस मामले पर यूएई के शाहजादे शेख मोहम्मद बिन सैयद अल नाहयान और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच चर्चा हुई थी। उन्होने बताया, अली को यूएई की आर्थिक मदद के बारे में जानकारी उस वक्त दी गई जब वह बकरीद की बधाई देने के लिए शाहजादे से मिले।

उन्होंने कहा कि सहायता को स्वीकार करने या नहीं करने का फैसला केंद्र सरकार लेगी। विजयन ने इस मुद्दे पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा, “मुझे उम्मीद है कि इसे स्वीकार कर लिया जाएगा।” बता दें कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मदद को लेकर UAE रूलर शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम का ट्वीट के जरिए शुक्रिया किया था।

Loading...