राजस्‍थान में सियासी संघर्ष चरम पर है। कांग्रेस के बाद अब बीजेपी (BJP) ने भी अपने विधायकों की तोड़फोड़ को रोकने के लिए अपने 12 विधायकों को अहमदाबाद (Ahmedabad) भेज दिया है। बीजेपी ने ये कदम वागड़, सिरोही और जालोर के एक दर्जन विधायकों को लेकर उठाया है।

इससे पहले कांग्रेस ने तीन चार्टर्ड प्लेन से अपने विधायकों को जैसलमेर भेजा था। बता दें कि राजस्‍थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने 14 अगस्त से विधानसभा का सत्र बुलाने के लिए अनुमति दी है। इसी के चलते विधायकों की तोड़फोड़ को रोकने के लिए बाड़ेबंदी की जा रही है।

इस पूरे घटनाक्रम पर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि हमारा अपने विधायकों से संपर्क जरूरी है। कांग्रेस जिस तरह की हल्की राजनीति पर आई हुई है, उसे देखते हुए लगता है कि वह कोई भी हरकत कर सकते हैं। ऐसे में अलर्ट रहना हमारे लिए भी जरूरी है।

वहीं पूर्व सीएम वसुंधरा राजे शुक्रवार को दिल्ली में भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मिलीं। नड्डा से मुलाकात के दौरान वसुंधरा राजे प्रदेश में चल रहे सियासी घटनाक्रम पर तो बात की ही, साथ ही प्रदेश में उनके खिलाफ हुई बयानबाजी पर भी नाराजगी जाहिर की।

इसके अलावा अब सभी की नजरें हाई कोर्ट पर टिकी हैं। आगामी 11 अगस्त को इस मामले में हाई कोर्ट की एकलपीठ का फैसला आने की उम्मीद है। बसपा से कांग्रेस में शामिल होने वाले विधायक वाजिब अली ने कहा कि हाई कोर्ट का नोटिस ले लिया है। सभी छहों विधायकों ने हाईकोर्ट का नोटिस ले लिया है. वाजिब अली ने कहा कि हमें न्यायिक व्यवस्था पर पूरा भरोसा है।

Loading...
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano
विज्ञापन