मेरठ में आयोजित रैली को संबोधित करते हुए बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने बीजेपी पर गंभीर आरोप लगाया है. उन्होंने कहा बीजेपी ने सहारनपुर हिंसा की आड़ में मेरी हत्या कराने की साजिश रची थी.

‘मंडल स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन’ को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, मेरी हत्या करवाने का प्लान है इसलिए राज्यसभा में बना रहना उचित नहीं था. उन्होंने कहा, महाराणा प्रताप जयंती पर दंगा कराया गया और सहारनपुर कांड पर सदन में बोलने नहीं दिया गया. इसलिए मैंने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मायावती ने कहा, इस घटना के बाद दिखावटी तौर पर कुछ लोगों पर कार्रवाई भी की गई. उन्होंने कहा, जातीय संघर्ष के पीछे बीजेपी का खास मकसद था. इस घटना के बाद इनके नेता पूरे देश के दलितों में फूट पैदा करना चाहते थे. जातीय संघर्ष के पीछे बीजेपी की सोच थी कि मायावती वहां पहुंचेगी और भड़काऊ भाषण देंगी फिर संघर्ष होगा.

उन्होंने अपने इस्तीफे की तुलना बाबा साहब के इस्तीफे से की. उन्होंने कहा, बाबा साहब ने कानून मंत्री पद से इस्तीफा दिया था. बाबा साहब ने कमजोर वर्गों के लिए संघर्ष किया. उन्होंने कानून मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था. वह तब महिलाओं के लिए हक की लड़ाई लड़ रहे थे.

बसपा प्रमुख ने कहा, बाबा साहब ने महिलाओं के लिए हिन्दू कोड बिल तैयार किया था. वह महिलाओं को बराबरी का हक दिलाने चाहते थे. बाद में हिन्दू कोड बिल टुकड़ों-टुकड़ों में पास हुआ. यह बाबा साहब अंबेडकर की देन है.

इस दौरान उन्होंने ईवीएम में गड़बड़ी का मुद्दा भी उठाया. उन्होंने कहा, इस बार हमारी पार्टी ईवीएम में गड़बड़ी को लेकर चुप नहीं बैठेगी.

Loading...