बिहार: 100 से अधिक बच्चों की मौ’तों के लिए बीजेपी सांसद ने 4G को बताया जिम्मेदार

5:58 pm Published by:-Hindi News

बिहार में चमकी बुखार से लगातार हो रहीं मौतों के लिए स्थानीय भाजपा सांसद अजय निषाद ने 4G को जिम्मेदार बताया है। निषाद ने कहा है कि गरीबी, गांव, गंदगी और गर्मी बच्चों की मौत की वजह है। सांसद ने मरीजों की जातियां भी गिनाते हुए कहा- ‘ज्यादातर मरीज गरीब तबके से हैं। उनके रहन-सहन के स्तर में गिरावट है। इसलिए इस बार ज्यादा मामले आ रहे हैं। लोगों के जीवन स्तर को सुधारने की जरूरत है।’

निषाद ने कहा- बीमारी से बचाव के लिए 4G पर काम करने की जरूरत है। पहला है गांव। जितने भी मृतक या बीमार बच्चे हैं- सब गांव से जुड़े हैं। दूसरा है- गरीबी। बीमारी से पीड़ित अधिकतर बच्चे गरीब परिवार से हैं। ज्यादातर लोग अनुसूचित जाति, जनजाति और अति पिछड़ा समाज से हैं। तीसरा है- गर्मी। इस साल बिहार में बहुत अधिक गर्मी पड़ रही है। चौथा है- गंदगी। इसकी रोकथाम करने के लिए पेड़-पौधे लगाने चाहिए।

निषाद ने कहा कि मस्तिष्क ज्वर (एईएस) से हर साल बच्चों की मौत होती है। इस बार प्रभावी कदम उठाने में चूक हुई है। बीमारी आने से पहले जमीनी स्तर पर जितना काम होना चाहिए था, नहीं हुआ। बीमारी अज्ञात है। सरकार को इन सभी चीजों पर ध्यान देने की जरूरत है। बीमारी पर शोध कर रहे लोगों को भी जमीनी स्तर पर जाने की जरूरत है।

वहीं, जेडीयू सांसद दिनेश चंद्र यादव ने कहा कि मुजफ्फरपुर की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है, क्योंकि कई सालों से जब भी गर्मी का मौसम आता है, बच्चे बीमार पड़ जाते हैं और मौतों की संख्या बड़ी हो जाती है। बारिश शुरू होते ही यह बंद हो जाएगा। इस दौरान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को मुजफ्फरपुर का दौरा किया। इस दौरान मुख्यमंत्री को विरोध प्रदर्शनों का भी सामना करना पड़ा।

जिला के स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के साथ नीतीश कुमार ने सरकारी श्री कृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एसकेएमसीएच) का दौरा किया, जहां उन्होंने अपना इलाज करा रहे बच्चों और उनके परिजनों से मुलाकात की।

बता दें कि मुजफ्फरपुर में अब तक 108 बच्चों की मौत हो चुकी है जबकि सैंकड़ों बच्चे अभी भी जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहे हैं।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें