अपने विवादित बयानों की वजह से चर्चा में रहने वाली मध्य प्रदेश बीजेपी की प्रदेश उपाध्यक्ष और विधायक उषा ठाकुर ने मीटू अभियान को लेकर विवादास्पद बयान दिया है। विधायक ऊषा ठाकुर ने मीटू कैंपेन पर सवाल उठाते हुए कहा कि महिलाएं तरक्की के लिए शॉर्टकट का रास्ता अपनाती हैं। ये रास्ता भारतीय सभ्यता और संस्कृति के अनुकूल नहीं है।

उषा ठाकुर ने कहा कि निजी स्वार्थ के लिए नैतिक मुल्यों से समझौता करती हैं, इसलिए ऐसी परेशानियों में फंसती हैं।’ उषा ठाकुर ने कहा कि ‘नैतिक और जीवन मूल्यों से समझौता कर पाई गई सफलता निरर्थक ही होती है इसलिए अपनी तरक्की के लिए शॉर्टकट का रास्ता कभी न चुनें।’

बता दें कि मध्य प्रदेश में विधायक ऊषा ठाकुर को कट्टर हिंदुत्व का समर्थक और फायरब्रांड नेता माना जाता है। उनसे केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर पर कई महिला पत्रकारों द्वारा लगाए गए यौन शोषण के आरोपों को लेकर सवाल किया गया था। जिस पर उन्होने ये जवाब दिया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

एमजे अकबर के इस्तीफे के बारे में बात करते हुए उषा ठाकुर ने कहा कि ‘इस समस्या का हल इस्तीफा देना नहीं है, समाज में गिरते नौतिक मूल्यों को बचाने का प्रयास होना चाहिए।’ वहीं दूसरी ओर अकबर ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों से इनकार किया है और इसे साजिश करार दिया है।

उन्होंने कहा, मेरे खिलाफ लगाए गए दुर्व्यवहार के आरोप झूठे और मनगढंत हैं। इन झूठे और बेबुनियाद आरोपों से मेरी छवि को अपूरणीय क्षति पहुंची है। मैं इन आरोपों पर जल्द जवाब नहीं दे सका, क्योंकि मैं विदेश की आधिकारिक यात्रा पर था। जबकि विपक्षी पार्टियों ने एमजे अकबर के इस्तीफे और पूरे मामले की जांच की मांग की है।

Loading...