चेन्‍नई: टीम इंडिया के पूर्व विस्‍फोटक ओपनर गौतम गंभीर ने हाल ही में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का दामन थामा।लेकिन बीजेपी जॉइन करने के साथ ही उनका पार्टी में विरोध भी शुरू हो गया है। दरअसल, गंभीर को नई दिल्ली सीट से लड़ाने की तैयारी है। लेकिन अब खबर आ रही है की गौतम को लेकर दिल्ली इकाई में घमसान मच गया है।

भारतीय जनता पार्टी के केंद्रीय नेतृत्‍व ने दिल्‍ली इकाई से लोकसभा चुनाव के लिए संभावित उम्‍म्मीदवारों की लिस्‍ट मांगी थी। जिसमे गौतम गंभीर का नाम नदारद था, इससे केंद्रीय नेतृत्व नाराज़ हो गया है। और दिल्ली इकाई को लिस्ट में सुधार कर दोबारा भेजने को कहा है।

Loading...

नई दिल्‍ली लोकसभा सीट से जिनके नामों का सुझाव दिया गया, उनके दिल्‍ली भाजपा प्रभारी और राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष श्‍याम जाजू, दिल्‍ली भाजपा महासचिव राजेश भाटिया, सांसद मीनाक्षी लेखी शामिल हैं। ये तीनों ही उस चुनाव समिति के सदस्‍य हैं जिसे हाईकमान को नामों की सूची भेजने का जिम्‍मा सौंपा गया था।

bjp

संभावित उम्‍मीदवारों की भेजी गई सूची में भाजपा महासचिवों- चांदनी चौक से रविंदर गुप्‍ता और पूर्वी दिल्‍ली से कुलजीत चहल और दिल्‍ली विधानसभा में नेता विपक्ष विजेंदर गुप्‍ता के नाम भी शामिल थे। यह भी उस 15 सदस्‍यीय चुनाव समिति के सदस्‍य हैं।

जिन दिन केंद्रीय नेतृत्‍व को यह नाम सौंपे गए, उसी दिन क्रिकेटर गौतम गंभीर ने भाजपा ज्‍वाइन की थी। हालांकि उनकास नाम दिल्‍ली भाजपा चुनाव समिति द्वारा भेजे गए 21 संभावित उम्‍मीदवारों की सूची से गायब था। उन्‍हें नई दिल्‍ली लोकसभा सीट से चुनाव लड़ाने की संभावना है मगर बताया जाता है दिल्‍ली भाजपा के एक धड़े को इसपर आपत्ति है।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें