कोलकाता | पिछले कुछ सालो में देश की राजनीती में काफी बदलाव आ गया है. अब राजनितिक दलों के अन्दर सुचिता और शालीनता की कमी स्पष्ट रूप से देखी जा सकती है. वो समय जा चूका है जब विपक्षी दल का नेता सत्ता पक्ष में बैठी प्रधामंत्री की तुलना माँ दुर्गा से करता था. अब राजनीतिक दलों के नेता विपक्षी नेताओं के खिलाफ इतनी अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करते है की उनको अपना जनप्रतिनिधि कहते हुए भी शर्म आती है.

भाषा के साथ साथ कुछ नेताओं के तो आचरण भी अमर्यादित होते जा रहे है. न जाने वो सत्ता के किस नशे में चूर रहते है. अगर पश्चिम बंगाल की बात करे तो वहां पिछले एक साल में बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस के बीच तल्खी इस कदर बढ़ी है की दोनों दलों के कार्यकर्ताओ के बीच कई बार हिंसक झड़प हो चुकी है. इसके अलावा दोनों दलों के नेताओं के बयान भी इस तल्खी को और बढ़ा रहे है.

पश्चिम बंगाल में एक बीजेपी नेता ने तो मर्यादाओ की सारी सीमाए लांघते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ बेहद ही आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया. उन्होंने ममता को हिजडा बताते हुए कहा की हम कह नही सकते की वो महिला है या पुरुष. बीजेपी नेता के इस बयान पर तृणमूल कांग्रेस आग बबूला हो गयी है. उन्होंने बीजेपी पर आरोप लगाया है की वो प्रदेश का माहौल ख़राब करने का प्रयास कर रहे है.

मिली जानकारी के अनुसार बीजेपी नेता श्यामपद मंडल ने वेस्ट मिदनापुर में आयोजित पार्टी कार्यकर्ताओ की बैठक को संबोधित करते हुए कहा की हम नही कह सकते की ममता महिला है या पुरुष. वो ट्रेन और बसों में मिलने वाले हिजड़ो के समान है.  यह पहला मौका नही है जब बीजेपी नेता ने ममता पर इस तरह की टिप्पणी की है. इससे पहले आगरा के बीजेपी यूथ विंग के नेता योगेश ने ममता का सर काटकर लाने वाले को 11 लाख रूपए देने का एलान किया था.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?