अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे जाने-माने पत्रकार अरुण शौरी ने रविवार को मोदी सरकार को घेरते हुए कहा कि  झूठ नरेंद्र मोदी सरकार की पहचान है.

उन्होंने देश की जनता से मोदी सरकार के वादों और कामों को बारीकी से परखने की अपील करते हुए कहा कि वह कई उदाहरण दे सकते हैं जिसमें अखबारों में पूरे पन्ने का विज्ञापन देकर ‘सरकार ने सिर्फ मुद्रा योजना द्वारा साढ़े पांच करोड़ से ज्यादा नौकरियां पैदा करने का आंकड़ा दिया है. उन्होंने कहा, हमें इस पर आश्चर्यचकित नहीं होना चाहिए..झूठ सरकार की पहचान बन चुका है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

शौरी ने कहा कि हमें एक व्यक्ति या नेता लंबे समय से क्या कर रहा है, उसकी जांच नहीं करनी चाहिए, बल्कि उसके कार्य पर बारीकी से नजर रखनी चाहिए. महात्मा गांधी का उद्धरण देते हुए उन्होंने कहा, “गांधीजी कहते थे कि वह (व्यक्ति) क्या कर रहा यह मत देखिए, बल्कि उसके चरित्र को देखिए और आप उसके चरित्र से क्या सीख सकते हैं.”

उन्होंने कहा, “हमने दो बार (पूर्व प्रधानमंत्री) वी.पी.सिंह व नरेंद्र मोदी के मामले में चूक कर दी. वे वही बात कहते हैं जो उस क्षण के लिए सुविधाजनक होती है. उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि मोदी अब क्या कह रहे हैं, इस बात के मुताबिक नहीं, लेकिन वह जो भी कह रहे हैं, उसके द्वारा जाने दो.

संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान सरकार की आलोचना करते हुए शॉरी ने कहा, आज हम सत्ता के केंद्रीकरण से हैरान हैं लेकिन यह गुजरात मॉडल है.