तेलंगाना सरकार द्वारा राज्य के मुसलमानों को आरक्षण देने के फैसले को लेकर केन्द्रीय मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि ‘साम्प्रदायिक आरक्षण’’ से देश बंट जाएगा, इसलिए राज्य में मुसलमानों को आरक्षण देने संबंधी तेलंगाना सरकार के फैसले का विरोध करने का भाजपा को पूरा हक है.

उन्होंने कहा, हमारे पास विरोध का पूर्ण अधिकार है। हम किसी प्रकार के साम्प्रदायिक आरक्षण के विरूद्ध हैं. यह मौजूदा टीआरएस (तेलंगाना में) के कारण नहीं है. जब राजशेखर रेड्डी (पुराने आंध्रप्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री) इसे लेकर आए थे, हमने विरोध किया था, जब चन्द्रबाबू नायडू ने इसका प्रस्ताव रखा, हमने उसका विरोध किया, जब टीआरएस लेकर आ रही है हम विरोध कर रहे हैं, क्योंकि साम्प्रदायिक आरक्षण देश को बांट देगा.

नायडू ने कहा,  भाजपा सत्तारूढ़ टीआरएस का समर्थन करेगी यदि तेलंगाना सरकार सामाजिक, शैक्षणिक और आर्थिक पिछड़ेपन के आधार पर आरक्षण दे. याद रहें कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव हाल ही में इस बारे दिए गए स्पष्टीकरण में कहा हैं कि मुस्लिमों के आरक्षण में वृद्धि धर्म के आधार पर नहीं बल्कि सामाजिक-आर्थिक पिछड़ेपन के आधार पर की गई है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मुख्यमंत्री राव ने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय के पिछड़े वर्ग के लोगों पहले ही पिछड़ा वर्ग (ई) के तहत रखा गया है और उन्हें आरक्षण दिया गया है. राज्य सरकार की और से इन्हें नौकरियों और शिक्षा में चार फीसदी आरक्षण मिला हुआ है.

Loading...