यूपी में योगी आदित्यनाथ की भाजपा सरकार द्वारा अवैध बूचड़खानों को प्रतिबन्धित किये जाने को लेकर आल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुसलमीन के अधयक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने भाजपा को निशाने पर लिया हैं.

उन्होंने कहा कि यूपी में मीटबंदी की वजह से मुसलमानों को बेरोजगारी का सामना करना पड़ रहा है. सरकार के इस फैसले से 15 लाख लोग बेरोजगार हो गए हैं, घर बर्बाद हो रहे हैं. उन्होंने आगे कहा, एक तरफ यूपी चुनाव में भाजपा ने एक भी मुस्लिम को टिकट नहीं दिया दूसरी तरफ सरकार उन्हें बेरोजगार कर रही है.

मेरठ में वंदे मातरम को लेकर हुए विवाद पर भी ओवैसी ने अपनी प्रतिक्रिया दी. और कहा, अंग्रेजों के खिलाफ हिंदू-मुसलमान मिलकर लड़े, लेकिन कभी किसी ने नहीं कहा था कि पहले आप वंदे मातरम कहिए. उन्होंने कहा, दरअसल सरकार की मंशा देश को हिंदू राष्ट्र बनाने की है और यूपी से इसकी शुरुआत कर दी गई है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हाल ही में ओवैसी ने बूचड़खानों पर कारवाई का मुद्दा लोकसभा में भी उठाया था. ओवैसी ने कहा था कि उत्तर प्रदेश में अवैध बूचड़खानों को जल्दबाजी में बंद करने की बजाय सरकार को उन्हें नियमन के लिए समय देना चाहिए. उन्होंने कहा, “यह पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी (सपा) की सरकार की गलती है कि उसने बूचड़खानों को नियमित नहीं किया। (नई) सरकार को उन्हें बंद करने की बजाय नियमित किए जाने के लिए समय देना चाहिए.

Loading...