ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुसलमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी  ने बीजेपी और आरएसएस पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि बीजेपी मुस्लिम मुक्त भारत चाहती है तो वहीं राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) दलित मुक्त भारत चाहता है.

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक जनसभा को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कहा, ‘मुस्लिमों और दलित को अब जागना होगा, क्योंकि बीजेपी इस देश को मुस्लिम मुक्त भारत बनाना चाहती है, वहीं आरएसएस दलित मुक्त भारत चाहती है.’ उन्होंने कहा, ‘मैं दलितों से भी कहना चाह रहा हूं कि आपका गरीब भाई आपके सामने खड़ा हुआ है.’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि संघ परिवार की विचारधारा और इनके गुरू गोलवलकर, हेडगेवार से लेकर सावरकर की तक विचारधारा मुस्लिमों को हिंदू बनाने की है. ऐसे में अब जरूरत है कि दलित-मुस्लिम संघ के इस तरह के प्रयासों के खिलाफ एक जुट हों और कहें कि वो हिंदुत्व को स्वीकार नहीं करेंगे.

40 हजार लोगों की मौजूदगी में ओवैसी ने तीन तलाक विरोधी बिल का विरोध करते हुए कहा, औरत को इंसाफ दिलाने की बात तो बस एक बहाना है, निशाना शरीयत को बनाना है.

उन्होंने कहा, ‘अगर मिस्टर मोदी सही में इंसाफ करना चाहते हैं तो आने वाले बजट में 2 हजार करोड़ का एक बजट बनाओ और कहो कि अगर कोई मुस्लिम मर्द अपनी बीवी को ट्रिपल तलाक देता है तो हर महिने 15 हजार रुपये देंगे.’

Loading...