पुणे के निकट भीमा-कोरेगांव में सोमवार को शोर्य दिवस मना रहे दलितों पर भगवा कार्यकर्ताओं के हमले के बाद पुरे राज्य में फैली हिंसा पर नेताओं की प्रतिक्रिया आ रही है. मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस हिंसा के लिए बीजेपी और आरएसएस को जिम्मेदार बताया है.

राहुल ने कहा कि कोरेगांव हिंसा बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की फासीवादी विचारधारा का प्रतीक है. उन्होंने ट्वीट में लिखा, आरएसएस और बीजेपी की फासीवादी विचाराधारा यही चाहती है कि दलित भारतीय समजा की तलहटी में ही रहें. ऊना, रोहित बेमुला और अब भीम-कोरेगांव प्रतिरोध के प्रतीक हैं.

ध्यान रहे 1 जनवरी 1818 के दिन ईस्ट इंडिया कंपनी की और से महारों ने पेशवा सेना से युद्ध किया था. इस दौरान अछूत समझे जाने वाले महारों की 500 सैनिकों की सेना ने 28 हजार योद्धा की पेशवा सेना को हरा दिया था. हर साल दलित समुदाय इस दिन शोर्य दिवस मनाता है.

इस युद्ध के 200 साल पूरे होने पर सोमवार को कार्यक्रम रखा गया था. सोमवार दोपहर को कार्यक्रम हिस्सा लेने जा रहे दलितों पर हमले के बाद हिंसा शुरू हो गई. इस हिंसा में एक शख्स की भी मौत हो गई. जिसके चलते दलित संगठनों ने महाराष्ट्र बंद का ऐलान किया है.

हिंसा की महाराष्ट्र के कई हिस्सों में भी फ़ैल गई. मुलुंद, चेम्बुर, भांडुप, विख्रोली के रमाबाई आंबेडकर नगर और कुर्ला के नेहरू नगर में ट्रेनें को रोक दी गईं. हड़पसर और फुर्सुंगी में बसों के साथ तोड़फोड़ की गई. अहमदनगर और औरंगाबाद जाने वाली बसों को रद्द कर दिया गया.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मारे गए युवक के परिवार वालों तो 10 लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की. मामले की जांच कराने का भी आश्वासन दिया.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?