पश्चिम बंगाल में गणतंत्र दिवस पर बीजेपी के राज्य प्रमुख दिलीप घोष ने बीरभूमि स्थित पार्टी कार्यालय में उल्टा तिरंगा फहरा दिया। जिसको लेकर उनकी चौतरफा आलोचना हो रही है। इस घटना के बाद तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) ने कहा कि बीजेपी के लोग देश चलाने के काबिल नहीं है।

जानकारी के अनुसार, रामपुरहाट कार्यालय में राष्ट्रीय ध्वज फहराने के तुरंत बाद घोष की नजर तिरंगे पर पड़ी तो उन्हें पता चला कि वह उल्टा है। हालांकि उन्होंने गलती का पता लगने के बाद ही झंडे को उतार लिया था। ऐसे में टीएमसी ने कहा है कि राष्ट्रीय ध्वज सही तरह से नहीं फहरा सकते, वे देश या राज्य चलाने के काबिल नहीं हैं।

वहीं दिलीप घोष ने संवाददाताओं से कहा कि यह एक शर्मनाक क्षण था, लेकिन यह सब अनजाने में गलती से हुआ। दिलीप घोष ने कहा कि किसी का इरादा राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करने का नहीं था। हालांकि, पार्टी के सदस्यों से भविष्य में सावधान रहने को कहा है।

सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल ने कहा, ‘दिलीप घोष बार-बार देशभक्त होने का दावा करते हैं। उन्होंने गणतंत्र दिवस पर उल्टा राष्ट्रीय ध्वज फहराया! इस मामले को किसी भी तरह से स्वीकार नहीं किया जा सकता है। देश का गौरव इससे शर्मसार हुआ है।

टीएमसी ने कहा कि सवाल उठता है कि गणतंत्र दिवस का झंडा फहराने से पहले आयोजकों को इस मुद्दे की जानकारी क्यों नहीं थी? दिलीप घोष ने कहा कि घटना बहुत असहज है। तिरंगा को लगाने से पहले देखा जाना चाहिए था। आयोजकों से कहा गया है कि वे भविष्य में ऐसी गलतियां न करें।