शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सैय्यद वसीम रिजवी के राम मंदिर मुद्दे पर मुस्लिमों के खिलाफ दिए गए विवादास्पद बयान पर समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान ने शनिवार को प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अगर भेजना ही है तो अमेरिका भेजो. उन देशों में क्यों भेजते हो, जहाँ खाने को नहीं है.

आजम खान ने कहा कि राम मंदिर का विरोध कर रहे मुस्लिमों को अगर वाकई देश से बाहर भेजना है तो किसी ऐसी जगह भेजो जहां उन्हें किसी तरह की समस्या का सामना ना करना पड़े. राजनेता उन्हें ऐसी जगह जाने की बात क्यों कहते हैं जहां पर पहले ही रोटी की दिक्कत हो.

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को निशाने पर लेते हुए कहा कि देश के बादशाह ऐसा चाहते हैं तो यूरोप भेजें, या अमेरिका के तानाशाह से भी उनकी अच्छी दोस्ती है, लेकिन पूर्ण स्थानान्तरण होना चाहिए.

बता दें कि शुक्रवार को शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन सरूयद वसीम रिजवी ने अयोध्या में रामलला के दर्शन के बाद कहा था कि सेकुलर मुस्लिम राम मंदिर निर्माण के पक्ष में हैं, जो कट्टरपंथी जेहादी हैं वहीं इसका विरोध कर रहे हैं. उन्होंने कहा था कि विरोध करने वाले मुस्लिमों को ‘पाकिस्तान या बांग्लादेश’ चले जाना चाहिए.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें