Saturday, October 23, 2021

 

 

 

अल्पसंख्यकों पर मोदी का भाषण, ओवैसी ने पूछा – गाय के नाम पर मुसलमानों की ह’त्या करने वालों को रोकेंगे

- Advertisement -
- Advertisement -

प्रधानमंत्री के तौर पर अपना दूसरा कार्यकाल शुरू करने जा रहे नरेंद्र मोदी के अल्पसंख्यकों वाले बयान को आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने ढोंग करार दिया।

ओवैसी ने कहा कि यदि पीएम मोदी इस बात से सहमत है कि अल्‍पसंख्‍यक भय में जी रहे हैं तो उन्‍हें यह भी जानना चाहिए कि जिन लोगों ने अखलाक की हत्‍या की, वे उनकी चुनावी जनसभा में उनके सामने पहली पंक्ति में बैठे थे। अगर पीएम सोचते हैं कि मुस्लिम डर में जीते हैं तो क्या वो उन गैंगों पर लगाम लगाएंगे जो गाय के नाम पर मुस्लिमों की हत्या करते हैं, पीटते हैं और फिर वीडियो बनाकर नीचा दिखाते हैं।’

ओवैसी ने कहा, ‘अगर मुस्लिम वास्तव में डर में जीता है तो क्या पीएम हमें बता सकते हैं कि 300 सांसदों में उनकी पार्टी के कितने मुस्लिम सांसद हैं जो लोकसभा के लिए चुने गए। यह पाखंड और अंतर्विरोध है जिसका पीएम मोदी और उनकी पार्टी पिछले 5 साल से प्रयोग कर रही है।’ बता दें कि शनिवार को पीएम मोदी ने संसद में अपने संबोधन के दौरान उन्होंने कहा था कि अल्पसंख्यकों को अबतक केवल छला गया है। वोट बैंक के लिए उन्हें भ्रम और भय में रखा गया है।

शनिवार को संसद के सेंट्रल हॉल में पीएम मोदी ने कहा था कि गरीबों के साथ जैसा छल हुआ, वैसा ही छल देश की माइनॉरिटी के साथ हुआ है। दुर्भाग्य से देश की माइनॉरिटी को उस छलावे में ऐसा भ्रमित और भयभीत रख गया है। उससे अच्छा होता कि माइनॉरिटी की शिक्षा, स्वास्थ्य की चिंता की जाती। 2019 में आपसे अपेक्षा करने आया हूं कि हमें इस छल को भी छेदना है। हमें विश्वास जीतना है।

वहीं, मुस्लिम धर्मगुरू यासूब अब्बास ने कहा कि अल्पसंख्यक वर्ग पर पीएम मोदी का बयान स्वागतयोग्य है। हमें उम्मीद है कि वह मुस्लिम समुदाय के डर को दूर करने में सफल होंगे। अब तक पार्टियों ने मुसलमानों को अपने वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल किया है। मैं इस पक्ष में हूं कि मुसलमानों को उनका उचित अधिकार मिलना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles