दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद से ही फिल्म नायक के अनिल कपूर की भूमिका में आ गए है। वे न केवल मौके पर जाकर मुआयना कर रहे है बल्कि अधिकारियों को खरी-खरी भी सुना रहे है।

गुरुवार (25 जुलाई) को कठपुतली कॉलोनी से विस्थापित लोगों का हाल जानने आनंद पर्वत ट्रांजिट कैंप पहुंचे केजरीवाल ने कैंप में फैली अव्यवस्थाओं पर सख्त नाराजगी जाहिर की। इस दौरान वह गंदगी व टपक रही छतों को देखकर भड़क गए। उन्होने कंपनी के आला अधिकारी को फटकार लगाते हुए केजरीवाल ने कहा कि अगर आपका 20 साल का मकान टपक नहीं रहा है तो कैसे आठ साल पुराने कैंप के मकानों का छत टपकने लगा।

सीएम ने कहा कि इन घरों से पानी क्यों टपक रहा है। अधिकारी ने सफाई में कहा कि छत आठ साल पुराने हो गये हैं। इस पर सीएम ने अधिकारी से कहा कि आप कैसी छतें बनाते हैं जो आठ साल में टूट जाती हैं और उनसे पानी टपकने लगता है। सीएम ने अधिकारी से पूछा कि आपका घर कितना पुराना है। अधिकारी ने कहा बीस साल। इसके बाद सीएम ने कहा कि क्या आपके घर में पानी टपक रहा है।

वहां मौजूद लोगों ने जब सीएम से कहा कि उन्हें काफी परेशानी हो रही है, और कंपनी के अधिकारी ठीक से काम नहीं करते हैं। तो केजरीवाल ने कहा कि इन लोगों को लगता है कि इनके बाप का माल है।

केजरीवाल ने कंपनी के मालिक को भी मोबाइल पर सख्त फटकार लगाते हुए कहा कि इस तरह की लापरवाही सरकार बर्दाश्त नहीं करेगी। कैंप की हालत बारिश के मौसम में रहने लायक नहीं है। बावजूद इसके उचित इंतजाम नहीं किया जा रहा है।

Loading...
विज्ञापन