तेलंगाना सरकार द्वारा आर्थिक और सामजिक रूप से पिछड़े मुसलमानों को दिए हुए आरक्षण में वृद्धि करने का विरोध करते हुए केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि धार्मिक आधार पर अगर आरक्षण देना जारी रहा तो इंडिया में जल्द ही एक और पाकिस्तान बन जाएगा.

अंबेडकर जयंती पर आयोजित भाजपा की बैठक में शुक्रवार को नायडू ने कहा कि तेलंगाना का कुछ खास वर्गों को आरक्षण देने का प्रस्ताव संवैधानिक रूप से अवैध है. उन्होंने कहा कि हम केसीआर (तेलंगाना के मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव) के आरक्षण लागू करने की इच्छा का विरोध नहीं कर रहे. भाजपा ने पहले भी राजशेखर रेड्डी (संयुक्त आंध्र के दिवंगत सीएम) और चंद्रबाबू नायडू (मौजूदा सीएम) की ऐसी कोशिशों का भी विरोध किया है.

नायडू ने कहा, ‘हम ऐसे किसी भी कदम का विरोध करेंगे क्योंकि इससे एक और पाकिस्तान बन जाएगा. यह भाजपा की अखिल भारतीय नीति है. यह भाजपा की तेलंगाना इकाई की नीति नहीं है.’ केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भाजपा सांप्रदायिक आरक्षणों के खिलाफ है. नायडू ने कहा, ‘सांप्रदायिक आरक्षण लोगों को सांप्रदायिक आधार पर बांट देगा. इससे देश के एक और बंटवारे की मांग को हवा मिलेगी. इससे लोगों में एकता नहीं रह जाएगी. इससे सामाजिक दुर्भाव पैदा हो जाएगा.’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

याद रहें कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव हाल ही में इस बारे दिए गए स्पष्टीकरण में कहा हैं कि मुस्लिमों के आरक्षण में वृद्धि धर्म के आधार पर नहीं बल्कि सामाजिक-आर्थिक पिछड़ेपन के आधार पर की गई है. मुख्यमंत्री राव ने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय के पिछड़े वर्ग के लोगों पहले ही पिछड़ा वर्ग (ई) के तहत रखा गया है और उन्हें आरक्षण दिया गया है. राज्य सरकार की और से इन्हें नौकरियों और शिक्षा में चार फीसदी आरक्षण मिला हुआ है.

Loading...